27 Jun 2019, 15:31 HRS IST
  • न्यायालय का गुजरात में रास की दो सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से इंकार
    न्यायालय का गुजरात में रास की दो सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से इंकार
    जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में मुठभेड़, चार आतंकवादी ढेर
    जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में मुठभेड़, चार आतंकवादी ढेर
    सिरिसेना से मिले प्रधानमंत्री मोदी, पारस्परिक हित के द्विपक्षीय मुद्दों पर की चर्चा
    सिरिसेना से मिले प्रधानमंत्री मोदी, पारस्परिक हित के द्विपक्षीय मुद्दों पर की चर्चा
    मोदी ने गुरुवायुर में कहा, वाराणसी जितना ही मुझे प्रिय है केरल
    मोदी ने गुरुवायुर में कहा, वाराणसी जितना ही मुझे प्रिय है केरल
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अडाणी समूह ने ऑस्ट्रेलिया में कोयला खदान पर काम शुरू करने की आखिरी बाधा पार की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 12:49 HRS IST

मेलबर्न, 13 जून (भाषा) अडाणी समूह ने बृहस्पतिवार को ऑस्ट्रेलिया की विवादित कार्माइकल कोयला खदान परियोजना पर काम शुरू करने की अंतिम बाधा पार कर ली। क्वींसलैंड राज्य के अधिकारियों ने कंपनी की भूजल प्रबंधन योजना को मंजूर कर लिया। इस तरह कंपनी को यह आखिरी नियामकीय अनुमति भी मिल गयी है।

कई अरब डॉलर की अडाणी समूह की यह परियोजना लंबे समय से अटकी थी। उसे यह अंतिम अनुमति ऑस्ट्रेलिया में चुनाव के बाद मिली है। इस चुनाव में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन के नेतृत्व वाले कोयला समर्थक गठबंधन की जीत हुई है।

इससे पहले 31 मई को क्वींसलैंड राज्य सरकार ने कंपनी की विलुप्त प्राय, काली गर्दन वाले फिंच पक्षी के संरक्षण की योजना को मंजूरी दे दी थी। यह खनन परियोजना क्षेत्र पर कंपनी की अहम पर्यावरण सुरक्षा योजना का हिस्सा है।

इस परियोजना पर काम शुरू करने को लेकर अडाणी समूह के सामने फिंच पक्षी का संरक्षण और भूजल का प्रबंधन ही दो प्रमुख बाधाएं थीं।

कंपनी के खनन स्थल पर कुछ दिनों में निर्माण शुरू करने की उम्मीद है।

राज्य के पर्यावरण एवं विज्ञान विभाग ने एक बयान में कहा कि उसने समूह द्वारा कुछ ही दिन पहले उपलब्ध करायी गयी एकदम नयी योजना को स्वीकार कर लिया है।

विभाग ने कहा कि यह योजना बेहतर आकलन और सबसे अच्छे उपलब्ध वैज्ञानिक समाधान पर आधारित है।

मीडिया रपटों के मुताबिक इससे पहले कंपनी ने भूजल प्रबंधन की दर्जन भर योजनाएं विभाग को सौंपी थीं। लेकिन उनमें से किसी को भी मंजूरी नहीं मिली।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में