15 Oct 2019, 18:58 HRS IST
  • मामल्लापुरम: भारत और चीन के बीच वार्ता का दृश्य
    मामल्लापुरम: भारत और चीन के बीच वार्ता का दृश्य
    नयी दिल्ली: केंद्रीय सूचना आयोग के 14वें वार्षिक सम्मेलन में बोलते गृह मंत्री अमित शाह
    नयी दिल्ली: केंद्रीय सूचना आयोग के 14वें वार्षिक सम्मेलन में बोलते गृह मंत्री अमित शाह
    मामल्लापुरम:चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के स्वागत में प्रस्तुति देते कलाकार
    मामल्लापुरम:चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के स्वागत में प्रस्तुति देते कलाकार
    मामल्लापुरम में सुबह का सैर करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
    मामल्लापुरम में सुबह का सैर करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • ईरानी पोतों ने ब्रिटिश टैंकर के ‘‘मार्ग को बाधित’’ करने की कोशिश की : ब्रिटेन सरकार

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 12:49 HRS IST

लंदन, 11 जुलाई (एएफपी) ब्रिटेन की सरकार ने गुरुवार को कहा कि ईरान की तीन पोतों ने खाड़ी समुद्री क्षेत्र में एक ब्रिटिश टैंकर के मार्ग को बाधित करने की कोशिश की जिसके बाद उसके एक युद्ध-पोत को हस्तक्षेप करना पड़ा।

ब्रिटिश सरकार ने बुधवार को हुई इस घटना पर एक बयान में कहा, ‘‘ अंतरराष्ट्रीय कानून के विपरीत, तीन ईरानी पोतों ने ‘स्ट्रेट ऑफ होर्मुज’ के जरिए वाणिज्यिक पोत ‘ब्रिटिश हेरिटेज’ का मार्ग बाधित करने की कोशिश की। ’’

बयान में कहा, ‘‘ एचएमएस मोंट्रोस को ईरानी जहाजों और ‘ब्रिटिश हेरिटेज’ के बीच खुद को लाना पड़ा और फिर उसने ईरानी जहाजों को मौखिक चेतावनी जारी की, जिसके बाद वह दूर हो गये। हम इस कार्रवाई से चिंतित हैं और ईरानी अधिकारियों से तनाव की स्थिति को कम करने का लगातार आग्रह करते हैं।’’

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह जिब्राल्टर में अधिकारियों ने ईरान के एक तेल टैंकर को रोका था। माना जाता है कि यह टैंकर युद्ध से तबाह सीरिया में ईरान का कच्चा तेल लेकर जा रहा था जिस पर यूरोपीय संघ ने प्रतिबंध लगाए हुए है।

इसके बाद ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने बुधवार को ब्रिटेन को आगाह किया था कि जिब्राल्टर के तट पर देश के एक तेल टैंकर को कब्जे में लेने की कोशिश पर ब्रिटेन को परिणाम भुगतने होंगे।

उन्होंने ब्रिटेन को चेताया, ‘‘ मैं इस बात को रेखांकित करना चाहूंगा कि समुद्री क्षेत्र में असुरक्षा की शुरुआत आपने की है और आपको इसके परिणामों का एहसास जल्द, जरूर होगा। ’’

एएफपी निहारिका मनीषा मनीषा 1107 1257 लंदन

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में