23 Jul 2019, 06:12 HRS IST
  • बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • सरकार ने शुरू किया जल शक्ति अभियान, पहला चरण 15 सितंबर तक :शेखावत

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:20 HRS IST

नयी दिल्ली, 11 जुलाई (भाषा) सरकार ने बृहस्पतिवार को लोकसभा में बताया जल की कमी वाले ब्लॉकों में जल की उपलब्धता बढ़ाने के लिए जल शक्ति अभियान की शुरूआत की गयी है।

जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने प्रश्नकाल में कहा कि देश के अनेक हिस्सों में निरंतर पानी निकाल जाने की वजह से भूजल स्तर गिर रहा है और 1186 ब्लॉक ऐसे वर्गीकृत किये गये हैं जिनमें आवश्यकता से अधिक जल निकाला गया है।

उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत 2024 तक गांवों में सभी घरों तक नल से जल आपूर्ति का निश्चय किया गया है।

शेखावत ने कहा कि सरकार ने जल शक्ति अभियान भी शुरू किया है जिसमें समयबद्ध तरीके से जल की कमी वाले ब्लॉकों में भूजल समेत जल की उपलब्धता बढ़ाने के कार्य को मिशन मोड में किया जाना है।

उन्होंने बताया कि प्रथम चरण में यह अभियान 15 सितंबर तक चलाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि केंद्रीय भूजल बोर्ड क्षेत्रीय स्तर पर देशभर में भूजल स्तर पर नजर रख रहा है। शेखावत ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि जल जीवन मिशन देशभर में स्थाई जल आपूर्ति प्रबंधन के अपने उद्देश्य की प्राप्ति के लिए अन्य केंद्रीय एवं राज्य सरकारी योजनाओं के साथ तालमेल करेगा। उन्होंने बताया, ‘‘इस कार्यक्रम के लिए वर्तमान वित्त वर्ष 2019-20 में 10000.66 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की गयी है।’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।