23 Jul 2019, 06:39 HRS IST
  • बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • भारतीय सैन्य बलों के साथ ‘‘सूचना साझा’’ करने की क्षमता को बढ़ावा दूंगा: अमेरिकी जनरल

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:58 HRS IST

(ललित के झा)

वॉशिंगटन, 12 जुलाई (भाषा) अमेरिका में एक शीर्ष सैन्य पद के लिए नामित जनरल ने कहा है कि इस पद के लिए उनके नाम की पुष्टि होने पर अमेरिका भारतीय सैन्य बलों के साथ ‘‘सूचना साझा करने की क्षमता’’ बढ़ाने को प्राथमिकता देगा और भारत के साथ रक्षा संबंधों को मजबूत बनाना जारी रखेगा।

ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टॉफ के अध्यक्ष के तौर पर नामित जनरल मार्क ए मिल्ले ने इस पद के लिए अपने नाम की पुष्टि की सुनवाई में सीनेट की सशस्त्र सेवा समिति के समक्ष लिखित प्रश्नों के उत्तर में कहा, ‘‘यदि मेरे नाम की पुष्टि हो जाती है तो मैं भारत के साथ रक्षा संबंधों को बरकरार रखूंगा और उन्हें बढ़ाना देना जारी रखूंगा और मैं मौजूदा द्विपक्षीय सैन्य वार्ताओं और 2+2 मंत्रिस्तीय बैठकों समेत उच्च स्तरीय बैठकों में भागीदारी के जरिए ऐसा करूंगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं भारतीय सैन्य बलों के साथ सूचना साझा करने की अपना क्षमता बढ़ाने को विशेष प्राथमिकता दूंगा।’’

अमेरिका ने भारत को 2016 में एक ‘बड़े रक्षा साझीदार’ के तौर पर मान्यता दी थी। इसके तहत भारत अमेरिका से उन्नत और संवेदनशील प्रौद्योगिकियां खरीद सकता है और यह रक्षा क्षेत्र में सतत सहयोग को सुनिश्चित करता है।

इस समय अमेरिकी ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के अध्यक्ष जनरल जोसेफ डनफोर्ड हैं। यदि सीनेट में मिल्ले के नाम की पुष्टि हो जाती है तो वह डनफोर्ड की जगह लेंगे।

जनरल मिल्ले इस समय अमेरिकी थलसेना के चीफ ऑफ स्टाफ हैं। उन्होंने अफगानिस्तान, इराक, सोमालिया और कोलंबिया में सेवाएं दी हैं।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।