23 Jul 2019, 06:51 HRS IST
  • बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम खेल
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • विश्व कप फाइनल के लिये धर्मसेना और इरासमस होंगे मैदानी अंपायर

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 16:9 HRS IST

लंदन, 12 जुलाई (भाषा) श्रीलंका के कुमार धर्मसेना और दक्षिण अफ्रीका के मारियस इरासमस को रविवार को लार्ड्स पर मेजबान इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच होने वाले विश्व कप फाइनल के लिये मैदानी अंपायर नियुक्त किया गया।



आईसीसी ने बयान में कहा कि आस्ट्रेलिया के रॉड टकर तीसरे अंपायर जबकि पाकिस्तान के अलीम डार चौथे अधिकारी होंगे।



श्रीलंका के रंजन मदुगले फाइनल मुकाबले के लिये मैच रैफरी होंगे।



फाइनल के लिये नियुक्त किये गये सभी अधिकारी इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया के बीच गुरूवार को हुए दूसरे सेमीफाइनल में भी अधिकारी थे जिसमें मेजबान ने आठ विकेट से जीत हासिल की थी।



बल्कि धर्मसेना ने एजबेस्टन में गुरूवार को दूसरे सेमीफाइनल में इंग्लैंड के जेसन रॉय के खिलाफ विवादास्पद फैसला दिया था।



रॉय (85 गेंद में 85 रन) शतक की ओर बढ़ रहे थे और 20वें ओवर में वह पैट कमिंस पर पुल शाट से चूक गये। धर्मसेना शुरू में थोड़े हिचके लेकिन उन्होंने आस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की लगातार अपील के बाद बल्लेबाज को आउट दे दिया।



रॉय गुस्से में थे क्योंकि उनके अनुसार गेंद उनके बल्ले या ग्लव्स से छूकर नहीं गयी थी लेकिन उन्हें इस फैसले को मानना पड़ा क्योंकि इंग्लैंड तब तक अपने रिव्यू गंवा चुका था।



रॉय ने अंपायर के साथ कुछ बात भी की। बाद में मैदानी अंपायर के खिलाफ नाराजगी व्यक्त करने के लिये रॉय पर 30 प्रतिशत मैच फीस का जुर्माना लगाया गया।



इस जुर्माने के अलावा आईसीसी ने रॉय के अनुशासनात्मक रिकार्ड में दो डिमैरिट अंक भी जोड़ दिये।



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।