21 Sep 2019, 06:59 HRS IST
  • पाकिस्तान ने मोदी के लिए वायु क्षेत्र खोलने का भारत का अनुरोध ठुकराया
    पाकिस्तान ने मोदी के लिए वायु क्षेत्र खोलने का भारत का अनुरोध ठुकराया
    प्रख्यात अधिवक्ता राम जेठमलानी का निधन
    प्रख्यात अधिवक्ता राम जेठमलानी का निधन
    लैंडर ‘विक्रम’ का जमीनी स्टेशन से संपर्क टूटा, प्रधानमंत्री ने कहा- जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं
    लैंडर ‘विक्रम’ का जमीनी स्टेशन से संपर्क टूटा, प्रधानमंत्री ने कहा- जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं
    ‘विक्रम’ की सॉफ्ट लैंडिंग की सभी तैयारियां पूरी
    ‘विक्रम’ की सॉफ्ट लैंडिंग की सभी तैयारियां पूरी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • एनएचपीसी दो हजार मेगावाट की निचली सुबनसिरी परियोजना का निर्माण शुरू कर सकती है दो माह में

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:48 HRS IST

नई दिल्ली, 25 अगस्त (भाषा) सरकारी क्षेत्र की कंपनी एनएचपीसी असम/अरुणाचल प्रदेश में 2000 मेगावाट क्षमता की निचली सुबनसिरी पनबिजली परियोजना का निर्माण कार्य इस साल अक्टूबर में फिर शुरू कर सकती है।

सरकार के एक अधिकारी ने बताया कि इसके लिए राज्य सरकार से मंजूरी मिल चुकी है। कंपनी इस परियोजना की स्थापना के लिए 2010 में अरुणाचल प्रदेश से करार कर लिया था। परियोजना असम की सीमा तक भी फैली है और असम सरकार से इसकी मंजूरी मिलनी बाकी थी।

अधिकारी ने बताया कि असम सरकार के साथ 23 अगस्त 2019 को करार पर हस्ताक्षर हो गये हैं। राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण की मंजूरी भी इस साल 31 जुलाई को मिल गयी थी। एनएचपीसी चालू मानसूम मौसम के तुरंत बाद अक्टूबर में इस का काम शुरू कर सकती है।

अरुणाचल प्रदेश और असम की सीमा पर उत्तरी लखीमपुर के पास प्रस्तावित इस परियोजना के निर्माण पर कुल 20 हजार करोड़ रुपये का खर्च होने का अनुमान है। यह साढे तीन साल में पूरी हो जाएगी।

इस परियोजना का काम 2006 में ही शुरू किया गया था लेकिन कई मुद्दों के चलते इसे 2011 में रोक दिया गया था। 2013 में हरित न्यायाधिकरण ने भी इसे रोक दिया था।

संबंधित मुद्दों की समीक्षा के बाद इसे अब आगे बढ़ाया जा रहा है।

भारत के बिजली क्षेत्र में पन बिजली क्षेत्र का हिस्सा कुल स्थापित उत्पादन क्षमता का 13 प्रतिशत है। 1960 के दशक में इस क्षेत्र का योगदान 50.36 प्रतिशत था।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में