21 Sep 2019, 05:53 HRS IST
  • पाकिस्तान ने मोदी के लिए वायु क्षेत्र खोलने का भारत का अनुरोध ठुकराया
    पाकिस्तान ने मोदी के लिए वायु क्षेत्र खोलने का भारत का अनुरोध ठुकराया
    प्रख्यात अधिवक्ता राम जेठमलानी का निधन
    प्रख्यात अधिवक्ता राम जेठमलानी का निधन
    लैंडर ‘विक्रम’ का जमीनी स्टेशन से संपर्क टूटा, प्रधानमंत्री ने कहा- जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं
    लैंडर ‘विक्रम’ का जमीनी स्टेशन से संपर्क टूटा, प्रधानमंत्री ने कहा- जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं
    ‘विक्रम’ की सॉफ्ट लैंडिंग की सभी तैयारियां पूरी
    ‘विक्रम’ की सॉफ्ट लैंडिंग की सभी तैयारियां पूरी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • निर्यातकों को सस्ते विदेशी मुद्रा कर्ज के नियम जल्द जारी करेगी सरकार

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:37 HRS IST

नयी दिल्ली, 12 सितंबर (भाषा) वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने निर्यात कर्ज में गिरावट पर चिंता जतायी है। उन्होंने बृहस्पतिवार को कहा कि सरकार निर्यातकों को सस्ती दर पर विदेशी मुद्रा में कर्ज देने को लेकर दिशानिर्देश लाएगी।

व्यापार बोर्ड की बैठक को संबोधित करते हुए गोयल ने कहा, ‘‘हम निर्यात कर्ज में गिरावट से चिंतित हैं। हम जल्दी ही इस मुद्दे के समाधान के लिये कार्यक्रम की रूपरेखा लाएंगे जो विशेष रूप से सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यमों की मदद करेगा।’’

उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के जरिये निर्यातकों को प्रतिस्पर्धी दर पर विदेशी मुद्रा कर्ज सुलभ होगा। इसकी ब्याज दर संभवत: 4 प्रतिशत से कम होगी।

गोयल ने कहा कि मंत्रालय इस बात का इंतजार कर रहा है कि निर्यात ऋण से जुड़े कुछ मुद्दों पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण कुछ निर्णय करेंगी।

उन्होंने कहा, ‘‘बैंक अधिकारी तैयार हैं और...हम जल्दी ही एक रूपरेखा लाएंगे। इसे रिजर्व बैंक, वित्त मंत्रालय और वाणिज्य मंत्रालय के साथ मिलकर अंतिम रूप दिया जा रहा है।’’

वित्त वर्ष 2018-19 में निर्यात कर्ज वितरण 23 प्रतिशत घटकर 9.57 लाख करोड़ रुपये रहा जो 2017-18 में 12.39 लाख करोड़ रुपये था।

गोयल ने यह भी कहा कि मंत्रालय नया डंपिंग रोधी नियम इस महीने अधिसूचित करेगा।

साथ ही मंत्री ने राज्यों से व्यापार बोर्ड की बैठकों में अपने प्रतिनिधियों को भेजने को कहा।

उन्होंने कहा कि राज्यों और मंत्रालयों की भागीदारी से सहयोग का निर्धारण होगा।

गोयल ने कहा, ‘‘अगर वरिष्ठ अधिकारी और राज्य के मंत्री यहां नहीं हैं, तो यह गंभीर चिंता का कारण है। मैं इस बारे में संबंधित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात कर सकता हूं।’’ उन्होंने कहा कि इसी प्रकार अगर निर्यात से संबद्ध केंद्रीय मंत्रालयों से कोई बिना किसी वैध कारण के नहीं आता है तो मैं इसे गंभीरता से लूंगा।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में