09 Aug 2020, 20:30 HRS IST
  • राम मंदिर राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक: मोदी
    राम मंदिर राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक: मोदी
    देश में एक दिन में कोविड-19 के 54,735 नए मामले, कुल मामले 17 लाख के पार
    देश में एक दिन में कोविड-19 के 54,735 नए मामले, कुल मामले 17 लाख के पार
    कोरोना वायरस का खतरा टला नहीं है, बहुत ही ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत : मोदी
    कोरोना वायरस का खतरा टला नहीं है, बहुत ही ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत : मोदी
    भारत में कोविड-19 के मामले 13 लाख के पार, मृतकों की संख्या 31,358 हुई
    भारत में कोविड-19 के मामले 13 लाख के पार, मृतकों की संख्या 31,358 हुई
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • इस्लामी संगठन ने देश की मौजूदा स्थिति पर चिंता व्यक्त की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 22:12 HRS IST

बेंगलुरु, 12 सितंबर (भाषा) देश में मुसलमानों के अहम संगठन जमात-ए-इस्लामी हिंद ने बृहस्पतिवार को देश के सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक हालात पर चिंता व्यक्त की और कहा कि वह चाहता है कि स्थिति में सुधार हो।

जमात-ए-इस्लामी हिंद के अमीर (प्रमुख) साआदतुल्लाह हुसैनी ने कहा कि देश के मुसलमान ‘डरे’ हुए नहीं हैं, बल्कि यह समुदाय शांति चाहने वाले भारत के हर नागरिक के साथ ‘चिंतित’ और ‘‘बेचैन’’है और चाहता है कि मौजूदा स्थिति में सुधार हो।

संगठन ने बृहस्पतिवार को ‘देश के मौजूदा हालात पर’ विभिन्न मुस्लिम संगठनों के प्रमुखों और प्रतिनिधियों के साथ बैठक की ।

हुसैनी ने कहा कि हमारा देश आज बहुत महत्वपूर्ण चरण से गुजर रहा है। एक तरफ हम विज्ञान जैसे कई मोर्चों पर विकास कर रहे हैं। दूसरी ओर जब हमारे पास विश्व नेता बनने के कई मौके हैं, तब बदकिस्मती देश में ऐसा परिदृश्य बन रहा है जो रास्ते में रूकावटें एवं अड़चनें पैदा कर रहा है।

बैठक के बाद हुसैनी ने पत्रकारों से कहा कि संसद में जिस तरह से अनुच्छेद 370 को ‘एकतरफा’ तरीके से हटाया गया और जम्मू कश्मीर के लोगों तथा राजनीतिक प्रतिनिधियों को विश्वास में नहीं लिया गया, यह लोकतांत्रिक मूल्यों के गिरावट को दिखाता है।

उन्होंने कहा कि ‘सांप्रदायिक ध्रुवीकरण’ और नफरत की राजनीति का उभार हो रहा है। वह एक बड़ी चुनौती बन गया है। इस चुनौती से निपटने के लिए यह अहम है कि संवाद को बढ़ावा देकर समुदायों के बीच संपर्क कायम किया जाए।

हुसैनी ने भीड़ द्वारा पीट पीटकर हत्या की घटनाओं के खिलाफ व्यापक कानून की जरूरत पर जोर दिया था तथा राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) और तीन तलाक संबंधी कानून पर चिंता व्यक्त की।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।