15 Dec 2019, 02:10 HRS IST
  • असामान्य रूप से मौन हैं प्रधानमंत्री, सरकार को अर्थव्यवस्था की कोई खबर नहीं: चिदंबरम
    असामान्य रूप से मौन हैं प्रधानमंत्री, सरकार को अर्थव्यवस्था की कोई खबर नहीं: चिदंबरम
    तमिलनाडु में भारी बारिश से दीवार गिरने से 15 लोगों की मौत
    तमिलनाडु में भारी बारिश से दीवार गिरने से 15 लोगों की मौत
    झारखंड विस चुनाव: प्रथम चरण में सुबह 11 बजे तक 27.41 प्रतिशत मतदान
    झारखंड विस चुनाव: प्रथम चरण में सुबह 11 बजे तक 27.41 प्रतिशत मतदान
    महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद का शपथ लेते हुये भाजपा नेता देवेंद्र फड़णवीस
    महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद का शपथ लेते हुये भाजपा नेता देवेंद्र फड़णवीस
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • जम्मू कश्मीर के तीन नेता हिरासत से रिहा

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 21:32 HRS IST

श्रीनगर, 20 सितंबर (भाषा) जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा पांच अगस्त को खत्म किए जाने के बाद हिरासत में लिए गए पूर्व पीडीपी नेता इमरान अंसारी, पीडीपी नेता खुर्शीद आलम और नेशनल कॉन्फ्रेंस के सैयद अखून को शुक्रवार को रिहा कर दिया गया।



अधिकारियों ने बताया कि इन नेताओं को राज्य के अन्य राजनीतिक बंदियों के साथ सेंटूर होटल में रखा गया था ।



अखून को स्वास्थ्य आधार पर छोड़ा गया, जबकि आलम को हाल में उनके भाई के निधन के कारण ‘‘अस्थायी तौर पर रिहा’’ किया गया ।



अंसारी राज्य में महबूबा मुफ्ती की सरकार जाने के बाद उनके नेतृत्व के खिलाफ बगावत करने वाले शुरूआती पीडीपी नेताओं में थे। अंसारी उपचार कराने के लिए शुक्रवार को नयी दिल्ली के लिए रवाना हो गए ।

उन्हें मुहर्रम के पहले उनके आवास से सेंटूर होटल में स्थानांतरित किया गया था।



वह 2014 के चुनाव में पट्टन विधानसभा क्षेत्र से निर्वाचित हुए थे ।



गैर आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, पांच अगस्त को केंद्र सरकार द्वारा विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद नेताओं, अलगाववादियों, कार्यकर्ताओं और वकीलों सहित हजारों लोगों को हिरासत में लिया गया था ।



तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों - फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को भी हिरासत में रखा गया ।



करीब 100 लोगों को जम्मू कश्मीर के बाहर जेलों में भेजा गया।



फारूक को कड़े लोक सुरक्षा कानून के तहत हिरासत में रखा गया जबकि अन्य नेताओं को सीआरपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत हिरासत में रखा गया है।



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।