15 Nov 2019, 01:22 HRS IST
  • सबरीमला मामला- न्यायालय ने पुनर्विचार के लिए समीक्षा याचिकाएं सात न्यायाधीशों की पीठ के पास भेजी
    सबरीमला मामला- न्यायालय ने पुनर्विचार के लिए समीक्षा याचिकाएं सात न्यायाधीशों की पीठ के पास भेजी
    करतारपुर गलियारे का इस्तेमाल करने वाले भारतीयों सिखों के लिये पासपोर्ट जरूरी नहीं - पाक
    करतारपुर गलियारे का इस्तेमाल करने वाले भारतीयों सिखों के लिये पासपोर्ट जरूरी नहीं - पाक
    झारखंड में पांच चरणों में मतदान, 23 दिसंबर को मतगणना
    झारखंड में पांच चरणों में मतदान, 23 दिसंबर को मतगणना
    आईएसआईएस का सरगना बगदादी अमेरिकी हमले में मारा गया: ट्रंप
    आईएसआईएस का सरगना बगदादी अमेरिकी हमले में मारा गया: ट्रंप
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • भारत-फ्रांस रक्षा वार्ता में द्विपक्षीय संबंधों के सभी मुद्दों की समीक्षा की गयी : राजनाथ

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:18 HRS IST

(अदिति खन्ना)

पेरिस, नौ अक्टूबर (भाषा) रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को कहा कि उन्होंने अपनी फ्रांसीसी समकक्ष के साथ ‘‘उपयोगी बातचीत’’ की और इस दौरान उन्होंने द्विपक्षीय रक्षा संबंधों से जुड़े सभी मुद्दों की समीक्षा की।

रक्षा मंत्रालय के एक बयान के अनुसार दोनों नेताओं ने आतंकवाद के खिलाफ द्विपक्षीय सहयोग को और प्रगाढ़ बनाने के भारत और फ्रांस के मजबूत इरादे की भी पुष्टि की।

रक्षा मंत्री सिंह ने बैठक के बाद ट्वीट किया, ‘‘फ्रांस की रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली के साथ पेरिस में वार्षिक रक्षा वार्ता के दौरान उपयोगी चर्चा हुई।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने अपने द्विपक्षीय रक्षा संबंधों के सभी मुद्दों का आकलन और समीक्षा की।’’

भारत और फ्रांस के बीच यह दूसरी मंत्रिस्तरीय वार्षिक रक्षा वार्ता है।

रक्षा मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि दोनों मंत्रियों ने द्विपक्षीय रक्षा सहयोग के सभी पहलुओं की समीक्षा की जो भारत-फ्रांस रणनीतिक साझेदारी का एक प्रमुख स्तंभ है।

इसमें कहा गया है कि उन्होंने पारस्परिक हित से जुड़े मौजूदा क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय घटनाक्रमों पर भी चर्चा की। दोनों पक्षों ने रक्षा से संबंधित बातचीत को और आगे बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा की। दोनों पक्षों ने मौजूदा नियमित द्विपक्षीय संयुक्त अभ्यास (शक्ति, वरुण और गरुड़) के दायरे और जटिलता का विस्तार करने पर भी सहमति व्यक्त की।

दोनों पक्षों ने स्वीकार किया कि हिंद महासागर क्षेत्र में भारत-फ्रांस साझेदारी साझा रणनीतिक और सुरक्षा हितों को सुरक्षित रखने और बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण है। सिंह और पार्ली ने हिंद महासागर क्षेत्र में भारत-फ्रांस सहयोग के संयुक्त रणनीतिक विजन में उल्लिखित कार्यों के निरंतर कार्यान्वयन पर भी जोर दिया।

इससे पहले सिंह का फ्रांस के रक्षा मंत्रालय के मुख्यालय ‘होटल डे ब्रायन’ में मंगलवार रात सैन्य सलामी गारद से स्वागत किया गया। इससे पहले उनका दिन भर व्यस्त कार्यक्रम रहा और इस दौरान उन्होंने भारतीय वायु सेना की ओर से पहला राफेल लड़ाकू जेट विमान प्राप्त किया।

इससे पहले सिंह ने नये विमान का शस्त्र पूजन करते हुए कहा था, ‘‘यह भारत-फ्रांस रणनीतिक साझेदारी में एक नया मील का पत्थर है और द्विपक्षीय रक्षा सहयोग एक नये मुकाम पर पहुंचा है। ऐसी उपलब्धियां हमें और कार्य करने के लिए प्रेरित करती हैं और जब मैं मंत्री पार्ली से मुलाकात करूंगा तो यह मेरे एजेंडे में होगा।’’

पूजा करने के बाद सिंह ने राफेल लड़ाकू विमान में कुछ देर तक उड़ान भी भरी थी।

सिंह फ्रांस की तीन दिवसीय यात्रा पर हैं और वह इस दौरान फ्रांसीसी बहुराष्ट्रीय कंपनी सफरन का भी दौरा करेंगे जो राफेल लड़ाकू जेट के लिए इंजन का उत्पादन करती है।

उनकी यात्रा फ्रांसीसी व्यापार और उद्योग जगत के प्रमुख लोगों के साथ बैठक के साथ समाप्त होगी। वह उन लोगों को अगले साल पांच से आठ फरवरी तक लखनऊ में आयोजित होने वाले डेफएक्सपो में भाग लेने के लिए औपचारिक निमंत्रण भी देंगे।

सिंह ने अपनी यात्रा की शुरूआत फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों से उनके आधिकारिक आवास एलिसी पैलेस में मुलाकात से की थी।

उन्होंने विमान में करीब 25 मिनट उड़ान भरने के बाद कहा था कि यह विमान भारतीय वायुसेना की लड़ाकू क्षमता को बहुत ज्यादा बढ़ाएगा लेकिन इस क्षमता का मकसद हमला नहीं बल्कि यह आत्मरक्षा के लिये प्रतिरोधी शक्ति है। इस उपलब्धि का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जाता है।

सिंह ने कहा कि वह उम्मीद करते हैं कि 36 लड़ाकू विमानों में से 18 विमान फरवरी 2021 तक सौंप दिये जाएंगे, जबकि शेष विमान अप्रैल-मई 2022 तक मिल जाने की उम्मीद है।

गौरतलब है कि भारत ने 59,000 करोड़ रुपये के सौदे के तहत सितंबर 2016 में फ्रांस से 36 लड़ाकू विमान खरीदने का आर्डर दिया था।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।