26 May 2020, 16:33 HRS IST
  • लॉकडाउन के बीच दिल्ली से अपने घर लौटते प्रवासी श्रमिक
    लॉकडाउन के बीच दिल्ली से अपने घर लौटते प्रवासी श्रमिक
    प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस के मद्देनजर 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडालन की घोषणा की
    प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस के मद्देनजर 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडालन की घोषणा की
    कोरोना वायरस के मद्देनजर नयी दिल्ली में लोग एहतियात बरतते हुये
    कोरोना वायरस के मद्देनजर नयी दिल्ली में लोग एहतियात बरतते हुये
    चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस की जांच करते चिकित्साकर्मी
    चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस की जांच करते चिकित्साकर्मी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • एअर इंडिया अपनी 100 करोड़ रुपये प्रतिमाह भुगतान की प्रतिबद्धता नहीं कर रही पूरी : तेल कंपनियां

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 18:26 HRS IST

नयी दिल्ली, 15 अक्टूबर (भाषा) सरकारी तेल कंपनियों ने मंगलवार को आरोप लगाया कि एअर इंडिया अपनी 100 करोड़ रुपये प्रतिमाह भुगतान की प्रतिबद्धता को पूरा नहीं कर रही है। एअर इंडिया पर तीन प्रमुख सरकारी तेल कंपनियों का 5,000 करोड़ रुपये का ईंधन भुगतान बकाया है जिसे पूरा करने के लिए उसने यह प्रतिबद्धता जतायी थी।

तेल कंपनियों ने कहा कि यदि इस समस्या का कोई समाधान नहीं किया जाता है तो उन्हें शुक्रवार से छह प्रमुख हवाईअड्डों पर कंपनी की ईंधन आपूर्ति रोकने पर मजबूर होना पड़ेगा।

इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन के वित्त निदेशक संदीप कुमार गुप्ता ने कहा, ‘‘एअर इंडिया ने जून और सितंबर दोनों बार तीनों कंपनियों को हर माह 100 करोड़ रुपये का भुगतान करने का वादा किया था ताकि उस पर ईंधन भुगतान के 5,000 करोड़ रुपये बकाये का निपटान हो सके। लेकिन दुर्भाग्य से कंपनी इसे पूरा करने में असफल रही है।’’

उन्होंने कहा कि भुगतान ना किए जाने पर इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम को एअर इंडिया की ईंधन आपूर्ति रोकने पर मजबूर होना पड़ेगा।

गुप्ता ने कहा, ‘‘हम कह चुके हैं कि हम प्रमुख हवाईअड्डों पर 18 अक्टूबर से ईंधन आपूर्ति रोक देंगे। देखते हैं अंतिम तिथि तक क्या निकल कर आता है।’’

एअर इंडिया पर कुल 5,000 करोड़ रुपये के बकाए में 2,700 करोड़ रुपये इंडियन ऑयल के हैं। इसमें 450 करोड़ रुपये का ब्याज शामिल है।

उल्लेखनीय है कि तेल कंपनियों ने पांच अक्टूबर को एक संयुक्त पत्र में छह हवाईअड्डों कोच्चि, मोहाली, पुणे, पटना, रांची और विशाखापत्तनम हवाईअड्डों पर 11 अक्टूबर से ईंधन आपूर्ति रोकने क चेतावनी दी थी। बाद में आखिरी तारीख बढ़ाकर 18 अक्टूबर कर दी गयी।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।