26 Feb 2020, 09:40 HRS IST
  • आशंकाओं के बावजूद 1.3 अरब भारतीयों ने महत्वपूर्ण न्यायिक निर्णयों का खुले दिल से स्वागत किया -  मोदी
    आशंकाओं के बावजूद 1.3 अरब भारतीयों ने महत्वपूर्ण न्यायिक निर्णयों का खुले दिल से स्वागत किया - मोदी
    एजीआर बकाया भुगतान संबंधी आदेश का अनुपालन नहीं होने पर न्यायालय ने अपनाया कड़ा रुख
    एजीआर बकाया भुगतान संबंधी आदेश का अनुपालन नहीं होने पर न्यायालय ने अपनाया कड़ा रुख
    एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • बीबीसी प्रमुख टोनी हॉल देंगे छह महीने के भीतर इस्तीफा

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 19:56 HRS IST

लंदन, 20 जनवरी (एएफपी) महिला और पुरुष कर्मचारियों को समान वेतन देने के कर्मचारी प्राधिकरण के आदेश से नुकसान का सामना कर रहे बीबीसी के महानिदेशक टोनी हॉल ने सोमवार को स्टाफ से कहा कि वह छह महीने के भीतर इस्तीफा दे देंगे।

उन्होंने कर्मचारियों को ई-मेल भेजकर कहा, ‘‘अगले छह महीने तक मैं इस संस्थान को अपना सबकुछ दूंगा...लेकिन गर्मियों में मैं आपके महानिदेशक पद से त्यागपत्र दे दूंगा।’’

टोनी ने कहा, ‘‘यदि मैं दिल की बात मानूं तो वास्तव में मैं कभी इस्तीफा नहीं देना चाहूंगा। हालांकि, मेरा मानना है कि नेतृत्व का एक महत्वपूर्ण हिस्सा संगठन के हितों को सबसे ऊपर रखना है।’’

उन्होंने यह पद 2013 में संभाला था। पूर्व प्रस्तोता जिम्मी सैविले के ब्रिटेन के सबसे बड़े बाल यौन शोषकों में एक होने का खुलासा होने के बाद टोनी के पास विश्व के सबसे बड़े प्रसारण संगठन की प्रतिष्ठा बहाल करने की जिम्मेदारी थी।

लेकिन बीबीसी को पिछले सप्ताह आए समान वेतन के आदेश से एक बड़ा झटका लगा है जिसका परिणामस्वरूप उसे लाखों पाउंड की राशि चुकानी पड़ सकती है और लाइसेंस शुल्क पर सरकार के कोपभाजन का शिकार होना पड़ सकता है।

कर्मचारी प्राधिकरण ने अपने आदेश में कहा कि बीबीसी ने वेतन देने में महिला प्रस्तोता समीरा अहमद के साथ भेदभाव किया और उन्हें समान शो के लिए पुरुष प्रस्तोता जेरेमी वाइन के वेतन की तुलना में छठा हिस्सा ही प्रदान किया।

इस आदेश से अन्य कर्मचारियों की ओर से दावा किए जाने का भी रास्ता खुल गया है।

बीबीसी को बोरिस जॉनसन के नेतृत्व वाली ब्रिटेन की नयी सरकार की ओर से भी दबाव का सामना करना पड़ रहा है जिसने इस पर आम चुनाव के दौरान भेदभावपूर्ण रिपोर्टिंग करने का आरोप लगाया है।

एएफपी नेत्रपाल उमा उमा 2001 1952 लंदन

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में