26 Feb 2020, 08:21 HRS IST
  • आशंकाओं के बावजूद 1.3 अरब भारतीयों ने महत्वपूर्ण न्यायिक निर्णयों का खुले दिल से स्वागत किया -  मोदी
    आशंकाओं के बावजूद 1.3 अरब भारतीयों ने महत्वपूर्ण न्यायिक निर्णयों का खुले दिल से स्वागत किया - मोदी
    एजीआर बकाया भुगतान संबंधी आदेश का अनुपालन नहीं होने पर न्यायालय ने अपनाया कड़ा रुख
    एजीआर बकाया भुगतान संबंधी आदेश का अनुपालन नहीं होने पर न्यायालय ने अपनाया कड़ा रुख
    एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • पाक डब्ल्यूईएफ लीड खान ट्रंप

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 22:25 HRS IST

विश्व आर्थिक मंच सम्मेलन में डोनाल्ड ट्रंप से मिलेंगे इमरान खान इस्लामाबाद, 20 जनवरी (भाषा) पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान दावोस में विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात करेंगे।

पाकिस्तानी विदेश कार्यालय ने सोमवार को यह घोषणा की।

डब्ल्यूईएफ के संस्थापक एवं कार्यकारी अध्यक्ष प्रोफेसर क्लाउस श्वाब के आमंत्रण पर खान 21 से 23 जनवरी तक स्विट्जरलैंड के दावोस में होने वाले इस सम्मेलन में शामिल होंगे।

विदेश कार्यालय ने कहा, ‘‘सम्मेलन से इतर, प्रधानमंत्री कई विश्व नेताओं के साथ बैठक करेंगे। इनमें अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के साथ मुलाकात भी शामिल है।’’

जुलाई 2019 में खान की पहली वाशिंगटन यात्रा के बाद पाकिस्तान और अमेरिका के बीच नेतृत्व स्तर की यह तीसरी वार्ता होगी। दोनों नेताओं ने सितंबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर भी मुलाकात की थी।

ट्रंप से अपनी मुलाकात से पहले खान ने शनिवार को भारत की ओर से किसी अभियान की आशंका जताई।

उन्होंने कहा कि सुरक्षा परिषद को भारत से कहना चाहिए कि वह भारत और पाकिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सैन्य पर्यवेक्षक समूह (यूएनएमओजीआईपी) को कश्मीर लौटने की अनुमति दे।

खान ने शनिवार को ट्वीट किया, ‘‘मैं भारत और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि यदि भारत नियंत्रण रेखा के इस पार आम लोगों को मारने के लिए सैन्य हमले जारी रखता है तो पाकिस्तान के लिए नियंत्रण रेखा पर मूक दर्शक बना रहना मुश्किल होगा।’’

भारत का कहना है कि जनवरी 1949 में स्थापित यूएनएमओजीआईपी की उपयोगिता खत्म हो चुकी है और शिमला समझौते तथा फलस्वरूप नियंत्रण रेखा की स्थापना के बाद यह अप्रासंगिक हो गया है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में