09 Aug 2020, 19:59 HRS IST
  • राम मंदिर राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक: मोदी
    राम मंदिर राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक: मोदी
    देश में एक दिन में कोविड-19 के 54,735 नए मामले, कुल मामले 17 लाख के पार
    देश में एक दिन में कोविड-19 के 54,735 नए मामले, कुल मामले 17 लाख के पार
    कोरोना वायरस का खतरा टला नहीं है, बहुत ही ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत : मोदी
    कोरोना वायरस का खतरा टला नहीं है, बहुत ही ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत : मोदी
    भारत में कोविड-19 के मामले 13 लाख के पार, मृतकों की संख्या 31,358 हुई
    भारत में कोविड-19 के मामले 13 लाख के पार, मृतकों की संख्या 31,358 हुई
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अमेरिकी अंतरक्षियात्रियों ने स्पेसएक्स के कैप्सूल में समुद्र में उतरने के लिए तैयारी की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 11:38 HRS IST

केप केनवरल, एक अगस्त (एपी) स्पेसएक्स और नासा की 45 वर्ष में पहली बार किसी अंतरिक्षयात्री को सीधे समुद्र में उताने की योजना है और ऐसी ही वापसी की तैयारी कर रहे अमेरिका के दो अंतरिक्षयात्रियों ने शुक्रवार को कहा कि उन्होंने ‘‘सीसिक बैग’’ तैयार कर लिए हैं।

सी सिकनेस दरअसल पानी में यात्रा के दौरान मितली, उल्टी और चक्कर आने जैसी समस्याओं को कहते हैं और ऐसे हालात में सीसिक बैग का इस्तेमाल किया जा सकता है।

स्पेसएक्स और नासा की रविवार दोपहर डाउग हर्ले और बॉब बेनकेन को कंपनी के ड्रैगन कैप्सूल में मैक्सिको की खाड़ी में उतारने की योजना है। फ्लाइट कन्ट्रोलर्स चक्रवात इसाइएस पर करीब से नजर रख रहे हैं , जिसके फ्लोरिडा के पूर्वी तट पर आने की आशंका है और जहां उन्हें उतारने की योजना है वह स्थान फ्लोरिडा के करीब है।

हर्ले ने कहा कि अगर वह और बेनकेन लहरों में बहते हुए बीमार पड़ गए तो यह चालक दल के लिए कोई नयी बात नहीं होगी। इससे पहले 1970 में स्काईलैब से आने वाले अंतरिक्षयात्री भी समुद्र में उतरने के बाद बीमार पड़ गए थे।

हर्ले ने अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन से चालक दल के अंतिम संवाददाता सम्मेलन में कहा,‘‘पानी में लैंड करने पर बीमार महसूस करना साधारण बात है।’’

यह स्पेसएक्स का अतंरिक्षयात्रियों को सीधे समुद्र में लैंड कराने का पहला मौका है। लैंड़िंग के साथ ही 30 मई को नासा के कैनेडी स्पेस सेंटर से शुरू हुई दो माह की टेस्ट फ्लाइट का समापन हो जाएगा। करीब एक दशक के बाद अमेरिका से किसी चालक दल की यह पहली उड़ान थी।

अंतरिक्षयात्रियों को ले जाने वाला कैप्सूल 31 मई से अंतरिक्ष स्टेशन पर है।

हर्ले ने कहा,‘‘ ड्रैगन के आपातकाल तथा अन्य उपकरणों की ठीक तरह से जांच कर ली गई है। लांच और गंतव्य तक पहुंचने में कोई बाधा नहीं हुई तो हम उम्मीद कर रहे हैं कि सागर में उतरने में भी कोई दिक्कत नहीं होगी।’’ ड्रैगन कैप्सूल करीब एक घंटे तक पानी में रहेगा और इसके बाद इसे एक क्रेन के जरिए निकाल कर स्पेसएक्स रिकवरी शिप पर रखा जाएगा। इस दौरान फ्लाइट सर्जन और रिकवरी दल के सदस्य मौजूद रहेंगे।

बेनकेन ने संवाददाताओं से कहा,‘‘ जब तक हमारे पास लैंडिंग के बेहतर विकल्प नहीं होंगे हम अंतरिक्ष स्टेशन से रवाना नहीं होंगे। स्प्लैशडाउन के लिए मौसम अच्छा है।’’

एपी







शोभना मानसी मानसी 0108 1134 केपकेनवरल

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में