21 Oct 2020, 10:9 HRS IST
  • न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • संयुक्त राष्ट्र में प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन काफी महत्वपूर्ण होंगे: तिरुमूर्ति

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 14:26 HRS IST

(योशिता सिंह)
न्यूयॉर्क, 19 सितंबर (भाषा) संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत टी एस तिरुमूर्ति ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर उच्चस्तरीय सम्मेलन और महासभा को संबोधित करेंगे। सुरक्षा परिषद में भारत के प्रवेश के बाद मोदी के ये संबोधन विशेष रूप से महत्वपूर्ण होने वाले हैं।

संयुक्त राष्ट्र महासभा का वार्षिक सत्र 21 सितंबर को शुरू होने जा रहा है। इस ऐतिहासिक अवसर पर संयुक्त राष्ट्र के 193 सदस्य देश कई अहम मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

तिरुमूर्ति ने 'पीटीआई-भाषा' से कहा, 'प्रधानमंत्री संयुक्त राष्ट्र को संबोधित करेंगे और वह विशेषकर भारत के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में प्रवेश के बाद जिस दृष्टिकोण को रेखांकित करेंगे, वह काफी महत्वपूर्ण होगा। '
मोदी पहले से रिकॉर्ड किए गए वीडियो बयान के जरिये विशेष कार्यक्रम को संबोधित करेंगे।
महासभा में परिचर्चा 22 सितंबर से शुरू होगी और 29 सितंबर तक चलेगी। मोदी 26 सितंबर को सभा को संबोधित करेंगे।
गौरतलब है कि भारत को दो साल के लिये संयुक्त राष्ट्र की शक्तिशाली सुरक्षा परिषद का अस्थायी सदस्य चुना गया है। इसके बाद इन दो उच्चस्तरीय सभाओं में मोदी जिस दृष्टिकोण को रेखांकित करेंगे, उसपर सभी की करीबी निगाह होगी।
सुरक्षा परिषद में अस्थायी सदस्य के तौर पर भारत का कार्यकाल 1 जनवरी 2021 से शुरू होगा।

संयुक्त राष्ट्र के 75 वर्ष के इतिहास में पहली बार ऐसे होगा जब सदस्य देशों के शासनाध्यक्ष और राष्ट्राध्यक्ष महासभा के लिये न्यूयॉर्क नहीं आ पाएंगे। कोविड-19 महामारी के चलते सभी शासनाध्यक्षों और राष्ट्राध्यक्षों ने विभिन्न सम्मेलनों और सत्रों के लिये पहले से रिकॉर्ड वीडियो बयान जमा करा दिये हैं, जिन्हें ऐतिहासिक महासभा कक्ष में चलाया जाएगा।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में