21 Oct 2020, 11:7 HRS IST
  • न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • जिलाधिकारी के खिलाफ धरने पर बैठे उपजिलाधिकारी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 1:15 HRS IST

प्रतापगढ़ (उप्र), 25 सितम्बर (भाषा) उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में शुक्रवार को जिलाधिकारी आवास पर घटित एक अभूतपूर्व घटना में उपजिलाधिकारी विनीत उपाध्याय जिलाधिकारी पर गम्भीर आरोप लगाते हुए धरने पर बैठ गये।

जिलाधिकारी से बातचीत के बाद उपाध्याय ने देर शाम धरना खत्म कर दिया।

अपर जिलाधिकारी शत्रोहन वैश्य ने इस वक्त कुंडा तहसील में उप जिलाधिकारी (न्यायिक) के पद पर तैनात उपाध्याय के जिलाधिकारी आवास पर धरने पर बैठने की पुष्टि की।



उन्होंने बताया कि जिलाधिकारी रूपेश कुमार ने इस सिलसिले में शासन को रिपोर्ट भेजी है।



उन्होंने बताया कि वर्ष 2019 में लालगंज तहसील में तैनाती के दौरान उप जिलाधिकारी विनीत उपाध्याय और अधिवक्ताओं के बीच कुछ विवाद हुआ था। उस वक्त उन्होंने गार्ड की राइफल छीन कर अधिवक्ताओं पर तानते हुए अभ्रदता की थी। अधिवक्ता संघ ने शासन से इसकी शिकायत की थी और उच्च न्यायालय में एक याचिका भी दाखिल की थी।

वैश्य ने बताया, 'शासन ने इस प्रकरण की जांच करने के लिए जिलाधिकारी को निर्देशित किया था। जिलाधिकारी रूपेश कुमार ने मुझे यह जांच सौंपी थी। आदेश पर मैंने जांच कर रिपोर्ट जिलाधिकारी को प्रेषित कर दी जिसमें एक लाइन उप जिलाधिकारी विनीत उपाध्याय के विरुद्ध थी। उपाध्याय को जांच रिपोर्ट की एक प्रति गत 22 सितम्बर को दी गयी थी।' उन्होंने बताया कि इससे नाराज उपाध्याय शुक्रवार को जिलाधिकारी के आवास पर पहुंचे और उनके कक्ष में धरने पर बैठ गये।



एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि उपाध्याय का यह आचरण अनुशासनहीनता की श्रेणी में आता है लिहाजा उन्हें निलम्बित किया जा सकता है।

इस बारे में उपजिलाधिकारी उपाध्याय से बात करने की कोशिश की गयी लेकिन बात नहीं हो सकी।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।