06 Jul 2022, 15:8 HRS IST
  • किताब'मोदी@20: ड्रीम्स मीट डिलीवरी'चर्चा कार्यक्रम में जयशंकर
    किताब'मोदी@20: ड्रीम्स मीट डिलीवरी'चर्चा कार्यक्रम में जयशंकर
    राष्ट्रपति पद की राजग की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू पटना पहुंची
    राष्ट्रपति पद की राजग की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू पटना पहुंची
    महाराष्ट्र में भारी बारिश की चेतावनी जारी
    महाराष्ट्र में भारी बारिश की चेतावनी जारी
    अमेरिका में स्वतंत्रता दिवस का जश्न
    अमेरिका में स्वतंत्रता दिवस का जश्न
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • श्रीलंका : प्रधानमंत्री पद छोड़ने के बाद पहली बार संसद में दिखे महिंदा राजपक्षे

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:38 HRS IST

कोलंबो, 18 मई (भाषा) श्रीलंका में प्रधानमंत्री पद से पिछले हफ्ते इस्तीफा देने और परिवार के साथ नौसेना अड्डे पर शरण लेने के बाद महिंदा राजपक्षे बुधवार को पहली संसद में दिखाई दिए।

देश के तीन बार प्रधानमंत्री रहे 76 वर्षीय म‍ंहिदा राजपक्षे के आवास पर पिछले हफ्ते आग लगा दी गई थी और उन्हें अपनी पत्नी तथा परिवार के साथ अपने आधिकारिक आवास ‘‘टेंपल ट्रीज’’ को छोड़ना पड़ा था और त्रिंकोमाली में नौसैन्य अड्डे में शरण लेनी पड़ी थी।

बता दें कि श्रीलंका में सबसे खराब आर्थिक संकट की वजह से बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हो रहे हैं और इस संकट के लिए राजपक्षे परिवार को जिम्मेदार बताया जा रहा है।

प्रधानमंत्री पद से मंहिदा राजपक्षे के इस्तीफे के कुछ समय बाद ही उनके समर्थकों ने सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर हमले कर दिए जिसके बाद देश भर में कर्फ्यू लगाना पड़ा और राजधानी में सेना बुलानी पड़ी।

सरकार विरोधी प्रदर्शकारियों पर हमले के बाद बड़े पैमाने पर हिंसा हुई। इसमें कम से कम नौ लोगों की मौत हुई और 200 से ज्यादा लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।

‘न्यूज़ फर्स्ट’ अखबार ने खबर दी है कि इस पूरे घटनाक्रम के बाद मंहिदा राजपक्षे आज संसद में दिखे। वह संसद के सदस्य हैं। उनके बेटे और पूर्व कैबिनेट मंत्री नमल राजपक्षे ने भी संसद के सत्र में शिरकत की।

खबर के मुताबिक, पिता-पुत्र, दोनों मंगलवार को संसद से गैर हाजिर थे, जब राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के प्रति नाराजगी व्यक्त करने वाले प्रस्ताव पर बहस के लिए स्थायी आदेशों को निलंबित करने के प्रस्ताव पर मतदान किया गया था। यह प्रस्ताव पर गिर गया था।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।