18 Jun 2018, 16:44 HRS IST
  • वृद्धि दर को दस प्रतिशत के पार पहुंचाना चुनौती, महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे: मोदी
    वृद्धि दर को दस प्रतिशत के पार पहुंचाना चुनौती, महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे: मोदी
    सुषमा ने अंतर ब्रिक्स सहयोग को मजबूत करने की दिशा में भारत के योगदान की इच्छा जताई
    सुषमा ने अंतर ब्रिक्स सहयोग को मजबूत करने की दिशा में भारत के योगदान की इच्छा जताई
    कश्मीर में चिंताजनक रूप से बढ़ी है आतंकवादी समूहों में स्थानीय लोगों की भर्ती : सुरक्षा एजेंसियां
    कश्मीर में चिंताजनक रूप से बढ़ी है आतंकवादी समूहों में स्थानीय लोगों की भर्ती : सुरक्षा एजेंसियां
    भारत, सिंगापुर आर्थिक, रक्षा संबंधों को और मजबूत बनाने पर सहमत
    भारत, सिंगापुर आर्थिक, रक्षा संबंधों को और मजबूत बनाने पर सहमत
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम प्रेस विज्ञप्ति व्याप्त प्रेस विज्ञप्ति
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
  • प्रेस विज्ञप्ति


स्रोत: Mitsubishi Chemical Corporation AsiaNet 72465
श्रेणी: Business and Finance
मित्सुबिशी केमिकल ने बायोइथेनाल उत्पादन के लिए अपने जियोलाइट मेंब्रेन की मार्केटिंग की खातिर रणनीतिक भागीदारी की
03/03/2018 11:50:32:630AM

पीआर नंबर 72465

 मित्सुबिशी एक टोक्यो

मित्सुबिशी केमिकल ने बायोइथेनाल उत्पादन के लिए अपने जियोलाइट मेंब्रेन की मार्केटिंग की खातिर रणनीतिक भागीदारी की   

टोक्यो, 28 फरवरी, 2018, क्योदो जेबीएन- एशियानेट।

मित्सुबिशी केमिकल कार्पोरेशन (‘‘एमसीसी’’) ने यहां बायोइथेनाॅल उत्पादन के लिए अपने जियोलाइट मेंब्रेन , जेब्रेक्स (टीएम) की मार्केटिंग की खातिर रणनीतिक भागीदारी की घोषणा की है। इस रणनीतिक भागीदारी में उत्तरी अमेरिका के लिए आईसीएम, इंक. (“आईसीएम”) और एशिया-प्रशांत तथा यूरोप के लिए मित्सुई एंड कंपनी, लिमिटेड (“मित्सुई”) कंपनियां शामिल हैं । यह भागीदारी वैश्विक स्तर पर बायोइथेनाल बाजार में एमसीसी के कारोबारी विकास को रफ्तार देगी।

वैश्विक बाजार का अमेरिका तथा ब्राजील नेतृत्व कर रहा है, ऐसे में मक्के, गन्ना और कसावा जैसे बायोमास फीडस्टाक से निकले बायोइथेनाल का इस्तेमाल इसकी कार्बन तटस्थता और ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में कमी लाने की क्षमता के कारण बड़े पैमाने पर हो रहा है। इसके अलावा जिसे ‘‘सेकंड जनरेशन बायोइथेनाल’’ कहा जा रहा है, वह बायोइथेनाल अखाद्य फीडस्टाक से निकलता है और अमेरिका तथा भारत में यह तेजी से उभर रहा है।

बायोइथेनाल ईंधन के तौर इस्तेमाल होने के लिए एक हद तक डिहाइड्रेटेड करने की जरूरत पड़ती है। वैश्विक स्तर पर लगातार बढ़ते बाजार के साथ बायोइथेनाल निर्माता जेब्रेक्स (टीएम) का आश्चर्यजनक लाभ उठाएंगे। अत्याधुनिक होने के कारण जेब्रेक्स (टीएम) जियोलाइट मेंब्रेन की डिहाइड्रेशन टेक्नोलाजी को जारी रखती है, बायोइथेनाल निर्माता परंपरागत पीएसए (*) के मुकाबले 20 से 30 प्रतिशत ऊर्जा खपत बचाएगा, जिसमें आवर्ती पुर्नउत्पादन की जरूरत पड़ती है। पीएसए प्रोसेस के स्थानांतरण से या किसी मौजूदा बायोइथेनाल प्लांट के एकीकरण से जेब्रेक्स (टीएम) बायोइथेनाल उत्पादकों को कार्बन मौजूदगी तथा परिचालन लागत कम करने की सुविधा देता है जबकि कार्यक्षमता और परिचालन स्थिरता में सुधार के जरिये उत्पादन बढ़ा रहा है।

ईंधन इथेनाल मार्केट में अपनी इंजीनियरिंग विशेषज्ञता के लिए मशहूर आईसीएम टेक्नोलाजी अमेरिका में आधे से ज्यादा इथेनाल संयंत्रों में इस्तेमाल की जाती है जहां सबसे ज्यादा बायोइथेनाल उत्पादन हो रहा है। एमसीसी की जेब्रेक्स (टीएम) डिहाइड्रेशन टेक्नोलाजी और आईसीएम की प्रोसेस इंटीग्रेशन क्षमता उत्तरी अमेरिकी बाजार में जेब्रेक्स (टीएम) के विस्तार को गति देगी।

मित्सुई का एशिया प्रशांत तथा यूरोप के बायोइथेनाल उत्पादकों के साथ एक मजबूत मार्केटिंग और बिजनेस नेटवर्क बना हुआ है। इसकी ताकत सिर्फ बायोइथेनाल तक सीमित नहीं है बल्कि यह चीनी तथा खाद्य बाजारों में भी निहित है। एमसीसी उन बायोइथेनाल उत्पादकों के लिए मित्सुई के साथ जेब्रेक्स (टीएम) को प्रोत्साहित करेगी जो इस टेक्नोलाजी का लाभ उठा सकते हैं। इस भागीदारी के नतीजतन यूरोप का एक सबसे बड़ा बायोइथेनाल उत्पादक हंगरी स्थित पैनोनिया इथेनाल जेआरटी ने विश्व का सबसे बड़ा जेब्रेक्स (टीएम) सिस्टम स्थापित करने की प्रतिबद्धता जताई है। पैनोनिया भी आईसीएम टेक्नोलाॅजी का ही इस्तेमाल करती हैः यह जेब्रेक्स (टीएम) एकीकरण वैश्विक संदर्भ में जेब्रेक्स (टीएम) के इर्द-गिर्द होने वाली सफल भागीदारी प्रदर्शित करने के लिए एक सर्वश्रेष्ठ नमूना साबित होगा।

एमसीसी प्रभावी ऊर्जा उत्पादन को बढ़ावा देना जारी रखने के लिए योगदान करती है और अपने जियोलाइट मेंब्रेन कारोबार का विस्तार करते हुए इसका इस्तेमाल करती है जिससे यह भागीदारी तेजी से आगे बढ़ सके।

(*) पीएसए (प्रेशर स्विंग एडसाॅर्पशन) परंपरागत टाइप ए जियोलाइट पेलेट्स वाली एक टेक्नोलाॅजी है। पीएसए डिहाइड्रेशन प्रक्रिया की अकुशलता के कारण डिस्टिलेशन कालम में पुर्नउत्पादन के लिए इथेनाल/जल 50 फीसदी मिश्रण की जरूरत पड़ती हैजो ऊर्जा तीव्रता प्रक्रिया का परिणाम देता है।

आईसीएम, इंक. के बारे में

वर्ष 1995 में स्थापित और कोलविच, कनास में मुख्यालय रखने वाली आईसीएम का क्षेत्राीय कार्यालय ब्राजील में है जो स्थायी कृषि में अभिनव टेक्नोलाॅजी, समाधान और सेवाएं देती है और इथेनाल तथा फीड टेक्नोलाजी समेत अक्षय ऊर्जा को आगे बढ़ाती है जिससे विश्व में प्रोटीन की सप्लाई बढ़ेगी। वैश्विक स्तर पर सालाना लगभग 8.8 बिलियन गैलन इथेनाल उत्पादन और सालाना 25 मिलियन टन डिस्टिलर अनाजों की उत्पादन क्षमता के साथ 100 से अधिक केंद्रों को स्वामित्व वाली प्रोसेस टेक्नोलाॅजी प्रदान करते हुए आईसीएम बायो-रिफाइनिंग टेक्नोलाजीज में वैश्विक अग्रणी कंपनी बन गई है। अधिक जानकारी के लिए कृपया देखें

<http://icminc.com/>

मित्सुबिशी केमिकल कार्पोरेशन वेबसाइटः

<https://www.m-chemical.co.jp/en/index.html>

स्रोतः मित्सुबिशी केमिकल कार्पोरेशन

संपादक : यह विज्ञप्ति आपको एशियानेट के साथ हुए समझौते के तहत प्रेषित की जा रही है । पीटीआई पर इसका कोई संपादकीय उत्तरदाियत्व नहीं है ।  

क्योदो जेबीएन- एशियानेटः रंजन

 

संपर्क:
मीडिया संपर्क विवरण:
 Bookmark with:   Delicious |  Digg |  Reditt |  Newsvine
    • arrow  प्रेस विज्ञप्ति
  • pti