18 Jun 2018, 16:43 HRS IST
  • वृद्धि दर को दस प्रतिशत के पार पहुंचाना चुनौती, महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे: मोदी
    वृद्धि दर को दस प्रतिशत के पार पहुंचाना चुनौती, महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे: मोदी
    सुषमा ने अंतर ब्रिक्स सहयोग को मजबूत करने की दिशा में भारत के योगदान की इच्छा जताई
    सुषमा ने अंतर ब्रिक्स सहयोग को मजबूत करने की दिशा में भारत के योगदान की इच्छा जताई
    कश्मीर में चिंताजनक रूप से बढ़ी है आतंकवादी समूहों में स्थानीय लोगों की भर्ती : सुरक्षा एजेंसियां
    कश्मीर में चिंताजनक रूप से बढ़ी है आतंकवादी समूहों में स्थानीय लोगों की भर्ती : सुरक्षा एजेंसियां
    भारत, सिंगापुर आर्थिक, रक्षा संबंधों को और मजबूत बनाने पर सहमत
    भारत, सिंगापुर आर्थिक, रक्षा संबंधों को और मजबूत बनाने पर सहमत
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम प्रेस विज्ञप्ति व्याप्त प्रेस विज्ञप्ति
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
  • प्रेस विज्ञप्ति


स्रोत: The Publicity Department of the CPC Guiyang Committee Asianet 72670
श्रेणी: High Technology
वैश्विक स्तर पर स्वायत्त ड्राइविंग इंजीनियर गियांग में ड्राइवरलेस कारें बनाने के प्रयास के साथ जुड़े
14/03/2018 2:01:54:920PM

सीपीसी गियांग एक गियांग

वैश्विक स्तर पर स्वायत्त ड्राइविंग इंजीनियर गियांग में ड्राइवरलेस कारें बनाने के प्रयास के साथ जुड़े

गियांग, चीन, 14 मार्च, 2018, शिन्हुआ- एशियानेट।

दक्षिण पश्चिम चीन के गियांग शहर में 12 देशों के लगभग 30 वैश्विक स्वायत्त ड्राइविंग इंजीनियर और 10 मेंटर 9 मार्च को शुरू हुए एक खुले साझा प्रचार प्रचार कार्यक्रम के साथ जुड़े। पब्लिसिटी डिपार्टमेंट आफ द सीपीसी गियांग कमेटी के मुताबिक, इस ‘‘मूव इट हैकथान’’ कार्यक्रम में दो स्वायत्त निर्मित वाहनों और पांच दिन के अंदर सड़कों पर इनका परीक्षण देखा जाएगा।

सीजोन नामक एक ओपन स्मार्ट फैक्टरी और एक वैश्विक साझा प्लेटफार्म भी ‘‘मूव इट’’ द्वारा लांच किया गया। पहली ‘‘मूव इट’’ वैश्विक स्वायत्त ड्राइविंग चुनौती पंजीकरण के लिए खोली गई।

‘‘मूव इट’’ विकास, विनिर्माण और लेटेस्ट आटोमोबाइल टेक्नोलाजीज को बढ़ावा देने के लए समर्पित स्वायत्त ड्राइविंग पर एकवैश्विक अभिनव ओपन सोर्स समुदाय है। ‘‘मूव इट हैकेथान’’ समुदाय की पहली आफलाइन गतिविधि है जिसका मकसद सहयोग के जरिये स्वायत्त ड्राइविंग के समक्ष आने वाली आम चुनौती से निपटना है। यह समाधान ड्राइवरलेस कारों का नवोन्मेषण और अनुप्रयोग गतिरोध कम करने और टेक्नोलाजी के इस्तेमाल को विस्तार देने के लिए साझा किया जाएगा।

इस साझेदारी शिविर में हिस्सा लेने वाले इंजीनियर और संरक्षक सभी प्रथम श्रेणी सेल्फ ड्राइविंग उद्योगों तथा विश्वविद्यालयों से आते हैं। ये गतिविधियां वायर नियंत्राण टेक्नोलाजी परिवर्तन , एलागरिथ्म डिबगिंग, आटोमेटिक ड्राइविंग सैंपल कार इंस्टालेशन और कमीशनिंग, मेंटर शेयरिंग तथा कई अन्य कार्यों में शामिल हैं। इंजीनियर तत्काल लाइन-कंट्रोल्ड वाहन टेक्नोलाजी लागू करेंगे और लाइन-कंट्रोल्ड वाहन का बेसिक चेसिस निर्मित करेंगे। आॅटोमेटिक ड्राइविंग सिस्टम ट्रैफिक कंट्रोल पर्सनल गेस्चर पहचान एवं नियंत्राण के साथ-साथ विभिन्न जीपीएस या लेजर रडार पर आधारित ट्रैकिंग और बाधा निवारण हासिल करने के लिए फुल-साइज कार इंस्टाॅल करेंगे और इन्हें दोषमुक्त करेंगे। आखिरी चरण सेल्फ ड्राइविंग कारों के इंस्टालेशन और दोषमुक्त बनाने का होगा और फिर समूह प्रतिस्पर्धा के लिए इसे तैयार किया जाएगा।

स्रोतः द पब्लिसिटी डिपार्टमेंट आफ द सीपीसी गियांग कमेटी

तस्वीर संलग्नक लिंकः

<http://asianetnews.net/view-attachment?attach-id=308342>

संपादक : यह विज्ञप्ति आपको एशियानेट के साथ हुए समझौते के तहत प्रेषित की जा रही है । पीटीआइ्र पर इसका कोई संपादकीय उत्तरदायित्व नहीं है । 

शिन्हुआ- एशियानेटः रंजन

 

संपर्क:
मीडिया संपर्क विवरण:
 Bookmark with:   Delicious |  Digg |  Reditt |  Newsvine
    • arrow  प्रेस विज्ञप्ति
  • pti