18 Feb 2019, 11:14 HRS IST
  • पुलवामा हमला: कैबिनेट की बैठक में भाग लेते प्रधानमंत्री व अन्य मंत्रीगण
    पुलवामा हमला: कैबिनेट की बैठक में भाग लेते प्रधानमंत्री व अन्य मंत्रीगण
    जम्मू: पुलवामा हमले के विरोध में प्रदर्शन करते लोग
    जम्मू: पुलवामा हमले के विरोध में प्रदर्शन करते लोग
    पुलवामा हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुये गृहमंत्री राजनाथ सिंह
    पुलवामा हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुये गृहमंत्री राजनाथ सिंह
    नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नयी ट्रेन वंदे भारत को हरी झंडी दिखाते हुये
    नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नयी ट्रेन वंदे भारत को हरी झंडी दिखाते हुये
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम प्रेस विज्ञप्ति व्याप्त प्रेस विज्ञप्ति
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
  • प्रेस विज्ञप्ति


स्रोत: Soka Gakkai International
श्रेणी: General
बौद्ध नेता की शांति प्रस्तावना में निरस्त्राीकरण और युवाओं की भूमिका बढ़ाने के लिए त्वरित कार्रवाई करने की अपील की गई
28/01/2019 4:20:04:840PM

बौद्ध नेता की शांति प्रस्तावना में निरस्त्राीकरण और युवाओं की भूमिका बढ़ाने के लिए त्वरित कार्रवाई करने की अपील की गई 


 

टोक्यो, 28 जनवरी, 2019, क्योदो जेबीएन- एशियानेट। 

 

सोका गकाई इंटरनेशनल (एसजीआई) बौद्ध आंदोलन के अध्यक्ष देसाकु इकेदा की ओर से 26 जनवरी को 37वां सालाना शांति प्रस्ताव जारी किया गया जिसका शीर्षक था ‘‘शांति और निरस्त्राीकरण की दिशा में नए युग की ओरः एक जन केंद्रित पहल’’। 

 

इस प्रस्ताव का मुख्य विषय निरस्त्राीकरण, खासकर परमाणु हथियारों की रोक पर 2017 की संधि (टीपीएनडब्ल्यू) के मुताबिक परमाणु हथियारों को नष्ट करने की दिशा में शीघ्र प्रगति के लिए केंद्रित प्रयास की जरूरत है। इकेदा ने उभरती घातक स्वायत्त हथियार प्रणालियों (एलएडब्ल्यूएस) के खतरों पर भी जोर दिया और इन हथियारों पर पाबांदी के लिए संधि पर बातचीत करने को एक गंभीर सम्मेलन आयोजित करने का प्रस्ताव रखा। 

 

मई 2018 में निरस्त्राीकरण एजेंडे पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस के विचार की सराहना करते हुए इकेदा ने मानवता पर केंद्रित राष्ट्रीय या सैन्य सुरक्षा के संदर्भ में एकमात्रा सुरक्षा के तौर पर देखने की सोच में बदलाव लाने की वकालत की, एक ऐसे विश्व के निर्माण के प्रयासों पर आधारित जनकेंद्रित मल्टीलेटरिस्म की वकालत की जिसमें सभी लोग सार्थक सुरक्षा का अनुभव कर सकें। 

 

उन्होंने कहा कि कैसे जटिलता और वैश्विक चुनौतियों के पैमाने युवाओं को यह अहसास करा सकते हैं कि सकारात्मक बदलाव असंभव है। उन्होंने उनसे त्याग देने के अहसास का प्रतिरोध करने और अतिसक्रिय तथा तेजी से फैलने वाले बदलाव के एजेंटों के तौर पर हमारे युग की गंभीर चुनौतियों से निपटने‘‘ की अपील की। 

 

इकेदा ने युवाओं से स्थायी विकास लक्ष्य (एसडीजी) के साथ जुड़ने की अपील की जो उनकी उपलब्धि के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने एसडीजी के समर्थन के लिए प्रतिबद्ध संयुक्त राष्ट्र के शैक्षणिक प्रभाव (यूएनएआई) विश्वविद्यालय नेटवर्क का विस्तार देने की अपील की और 2020 में इस तरह के विश्वविद्यालयों का वैश्विक सम्मेलन आयोजित करने का प्रस्ताव दिया। 

 

इकेदा ने मानवाधिकार शिक्षा के लिए विश्व कार्यक्रम के चैथे चरण पर फोकस करते हुए युवाओं की नियुक्ति का भी स्वागत किया। 

 

परमाणु निरस्त्राीकरण के संबंध में उन्होंने टीपीएनडब्ल्यू को प्रभावी बनाने के लिए इसके सशक्तीकरण को विस्तार देने पर फोकस किया और समान विचारधारा वाले देशों का समूह बनाने की अपील की ताकि चर्चा को गंभीर बनाया जा सके और इसके सत्यापन को बढ़ावा मिल सके- टीपीएनडब्ल्यू के मित्रा राष्ट्र, जिसे समग्र परीक्षण प्रतिबंध संधि (सीटीबीटी) के मित्रा राष्ट्रो के तहत बनाया जा सके। उन्होंने इस मुहिम में जापान की अगुवाई करने की वकालत की। 

 

उन्होंने आईसीएएन के नए शहरों की अपील पर भी प्रकाश डाला और संबंधित रुप्ब्।छैंअम सोशल मीडिया मुहिम केबारे में बताया।  

 

परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) पर 2020 के समीक्षा सम्मेलन की ओर निगाह रखते हुए इकेदा ने परमाणु युद्ध को हाई-अलर्ट स्टेटस से अलग रखने जैसे कदम उठाने की अपील की। उन्होंने यह भी प्रस्ताव रखा कि निरस्त्राीकरण (एसएसओडी-फोर) को समर्पित यूएन जनरल असेंबली का चैथा विशेष सत्रा 2021 में आयोजित कराया जाए। 

 

अन्य फोकस एसडीजी से जुड़ा जल संसाधन प्रबंधन है। इकेदा उम्मीद करते हैं कि जापान, चीन और दक्षिण कोरिया पश्चिम एशिया तथा अफ्रीका जैसे देशों में  मिलकर काम करेंगे जहां जल के दोबारा इस्तेमाल और खारापन दूर करने की मांग तेजी से बढ़ रही है। 

 

सोका गकाई इंटरनेशनल (एसजीआई) एक समुदाय आधारित नेटवर्क है जो 120 मिलियन सदस्यों के साथ बौद्ध मानवता और शांति का प्रसार-प्रचार करता है। एसजीआई के अध्यक्ष देसाकु इकेदा (1928-) ने 1983 से हर साल 26 जनवरी को वैश्विक समस्याओं के समाधानों तथा बौद्ध दर्शन की पेशकश के लिए शांति प्रस्ताव जारी किए हैं ताकि एसजीआई की स्थापना का मकसद पूरा हो सके। देखेंः  www.sgi.org

 

स्रोतः सोका गकाई इंटरनेशनल 

 

संपादक : यह विज्ञप्ति आपको एशियानेट के साथ हुए समझौते के तहत प्रेषित की जा रही है। पीटीआई पर इसका कोई संपादकीय उत्तरदायित्व नहीं है।

संपर्क:
मीडिया संपर्क विवरण:
युकी कनवानाका आॅफिस आॅफ पब्लिक इन्फाॅर्मेशन सोका गकाई इंटरनेशनल टेलीफोन: 81 80 5957 4919 ई-मेलः kawanaka[]at]soka.jp
 Bookmark with:   Delicious |  Digg |  Reditt |  Newsvine
    • arrow  प्रेस विज्ञप्ति
  • pti