23 Apr 2019, 00:31 HRS IST
  • नामांकन दाखिल करने से पहले उत्तर-पूर्वी दिल्ली से भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी, हरियाणवी डांसर सपना चौधरी के साथ विजय चिह्न दिखाते हुये
    नामांकन दाखिल करने से पहले उत्तर-पूर्वी दिल्ली से भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी, हरियाणवी डांसर सपना चौधरी के साथ विजय चिह्न दिखाते हुये
    बैसाखी उत्सव में स्वर्ण मंदिर के सरोवर डुबकी लगाते श्रद्धालु
    बैसाखी उत्सव में स्वर्ण मंदिर के सरोवर डुबकी लगाते श्रद्धालु
    रंगोली बीहू उत्सव में बीहू नृत्य करते कलाकार
    रंगोली बीहू उत्सव में बीहू नृत्य करते कलाकार
    बाबा साहेब अंबेडकर की जयंती पर श्रद्धांजलि देते राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री
    बाबा साहेब अंबेडकर की जयंती पर श्रद्धांजलि देते राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम प्रेस विज्ञप्ति व्याप्त प्रेस विज्ञप्ति
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
  • प्रेस विज्ञप्ति


स्रोत: Amar Ujala Publication Ltd (AUPL)
श्रेणी: General
अमर उजाला ने शब्‍द सम्‍मान के पहले अध्‍याय का समापन किया, विजेताओं को सम्‍मानित किया गया
01/02/2019 3:11:19:423PM
अमर उजाला ने शब्‍द सम्‍मान के पहले अध्‍याय का समापन किया, विजेताओं को सम्‍मानित किया गया

 

नई दिल्‍ली, भारत-बिजनेस वायर इंडिया

 

हिंदी साहित्‍य और प्रादेशिक भाषाओं में साहित्‍य भारत के सपनों एवं महत्‍वाकांक्षाओं की सार्वभौमिकता को परिलक्षित करते हैं। भाषा की बा‍रीकियों को समझने के लिए एक मंच की जरूरत थी जोकि सांस्‍कृतिक परिवेश में बदलावों को प्रतिबिंब प्रस्‍तुत करता हो। शब्‍द सम्‍मान  को अमर उजाला ग्रुप द्वारा शुरू किया गया ताकि साहित्‍य की नीतियों को संरक्षित रखने की दिशा में काम रहे लोगों को सम्‍मानित किया जा सके।

 

शब्‍द सम्‍मान के पहले अध्‍याय का समापन 31 जनवरी 2019 को दिल्‍ली में हुआ। इस अवसर पर पूर्व-राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी की उपस्थिति देखने को मिली जिन्‍होंने विजेताओं को पुरस्‍कृत किया। निर्णायक मंडल के पास 1200 से अधिक टाइटल्‍स सबमिट किये गये थे। ज्‍यूरी मेंबर्स में ज्ञानार्जुन, मंगलेश डबराल, विश्‍वनाथ त्रिपाठी, प्रयाग शुक्‍ल और सुधीश पिचौरी जैसे दिग्‍गज लेखक शामिल थे जिन्‍होंने प्रविष्टियों को जज किया। यह पुरस्‍कार साहित्यिक मूल्‍य वाली किताबों को ही सम्‍मानित नहीं करते हैं बल्कि इसमें सांस्‍कृतिक बदलाव की गहन समझ के साथ साहित्‍य के कार्य को भी सराहा गया।

 

शब्‍द सम्‍मान का सर्वोच्‍च सम्‍मान आकाशदीप साहित्‍य के क्षेत्र में समग्र योगदान के लिए दिया जाता है और इस बार यह पुरस्‍कार प्रतिष्ठित समीक्षक डॉ नामवर सिंह को हिंदी भाषा के लिए एवं मशहूर कलाकारग-गुरू गिरीश कर्नाड को गैर-हिंदी भाषा श्रेणी के लिए प्रदान किया गया है। फिक्‍शन श्रेणी में मनीष वैद्य के संग्रह फुगाटी का जूता को सम्‍मानित किया गया।

 

पद्य श्रेणी में, आर चेतन क्रांति का संग्रह “वीरता पर विचलित और गैर-फिक्‍शन श्रेणी में अनिल यादव की किताब सोनम गुप्‍ता बेवफा नहीं है को पुरस्‍कार दिया गया। प्रथम कार्य श्रेणी में प्रवीण कुमार की कृति छबीला रंगाबाज का शहर को सम्‍मानित किया गया है। अनुवाद श्रेणी में, गोरख थोराट को देखनी पुरस्‍कार से अलंकृत किया गया (वास्‍तविक कार्य भालचंद नेमारडे)। प्रत्‍येक पुरस्‍कार विजेता को श्री राम सुतार द्वारा विशेष रूप से डिजाइन की गई कलाकृति के अलावा नकद पुरस्‍कार प्रदान किया गया।

 

शब्‍द सम्‍मान के पहले अध्‍याय की सफलता पर प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए, ग्रुप सलाहकार श्री यशवंत व्‍यास ने कहा, “भारत विभिन्‍न संस्‍कृतियों का समागम स्‍थान है और साहित्‍य इन सांस्‍कृतिक मूल्‍यों को बांधने वाली शक्ति है। इसलिए एक हिंदी मीडिया घराने के तौर पर, साहित्यिक शख्सियतों के कार्यों को बल प्रदान करना हमारे लिए एक स्‍वाभाविक कदम था जिन्‍होंने साहित्‍य के जोश को संरक्षित रखा है, शब्‍द सम्‍मान संस्‍कृति का वास्‍तविक सार है।”

 

पहले अध्‍याय की समाप्ति के साथ, शब्‍द सम्‍मान आने वाले सालों में और अधिक मजबूत अध्‍यायों का वादा करता है।

 

संपादक : यह विज्ञप्ति आपको बिजनेस वायर इंडिया के साथ हुए समझौते के तहत प्रेषित की जा रही है। पीटीआई पर इसका कोई संपादकीय उत्तरदायित्व नहीं है।
संपर्क:
मीडिया संपर्क विवरण:
नेहा सिकरी, अमर उजाला पब्लिकेशन लिमिटेड (एयूपीएल), +91-9643405724, nehas@del.amarujala.com
 Bookmark with:   Delicious |  Digg |  Reditt |  Newsvine
    • arrow  प्रेस विज्ञप्ति
  • pti