23 Apr 2019, 00:13 HRS IST
  • नामांकन दाखिल करने से पहले उत्तर-पूर्वी दिल्ली से भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी, हरियाणवी डांसर सपना चौधरी के साथ विजय चिह्न दिखाते हुये
    नामांकन दाखिल करने से पहले उत्तर-पूर्वी दिल्ली से भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी, हरियाणवी डांसर सपना चौधरी के साथ विजय चिह्न दिखाते हुये
    बैसाखी उत्सव में स्वर्ण मंदिर के सरोवर डुबकी लगाते श्रद्धालु
    बैसाखी उत्सव में स्वर्ण मंदिर के सरोवर डुबकी लगाते श्रद्धालु
    रंगोली बीहू उत्सव में बीहू नृत्य करते कलाकार
    रंगोली बीहू उत्सव में बीहू नृत्य करते कलाकार
    बाबा साहेब अंबेडकर की जयंती पर श्रद्धांजलि देते राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री
    बाबा साहेब अंबेडकर की जयंती पर श्रद्धांजलि देते राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम प्रेस विज्ञप्ति व्याप्त प्रेस विज्ञप्ति
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
  • प्रेस विज्ञप्ति


स्रोत: Vision Impact Institute
श्रेणी: Medical and Health Care
विजन इम्पैक्ट इंस्टीट्यूट ने कानून निर्माताओं से सड़क सुरक्षा बढ़ाने के लिए अच्छी दृष्टि को प्राथमिकता देने की अपील की
05/02/2019 10:50:58:877AM

विजन इम्पैक्ट इंस्टीट्यूट ने कानून निर्माताओं से सड़क सुरक्षा बढ़ाने के लिए अच्छी दृष्टि को प्राथमिकता देने की अपील की 


 

डलास, 4 फरवरी, 2019, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट।  

 

- सड़क सुरक्षा पर चर्चा में अच्छी दृष्टि का विषय गायब है 

 

विजन इम्पैक्ट इंस्टीट्यूट भारतीय कानून निर्माताओं से अपील कर रहा है और सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान तथा इसके बाद भी सड़कों पर अच्छी दृष्टि को प्राथमिकता देते हुए सुरक्षित सड़कें बनाने के लिए अपनी प्रतिबद्धता जारी रखने की वकालत कर ही है। 

 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक, विश्व में कहीं भी सड़क दुर्घटना के कारण होने वाली मौतों की तुलना में भारत में ज्यादा लोग मारे जाते हैं। इसमें प्रतिवर्ष 231,000 (https://c212.net/c/link/?t=0&l=en&o=2364535-1&h=651439562&u=https%3A%2F%2Fwww.who.int%2Fviolence_injury_prevention%2Froad_traffic%2


लोगों की जान जाती है और जीडीपी का तीन फीसदी इस पर आर्थिक खर्च आता है। सड़कों पर बढ़ती कारों, पैदलयात्रियों, साइकिल सवारों और अन्य लोगों के कारण यह समस्या कम नहीं होगी। 

 

विजन इम्पैक्ट इंस्टीट्यूट के वैश्विक कार्यकारी निदेशक क्रिस्टन ग्रास (https://c212.net/c/link/?t=0&l=en&o=2364535-1&h=2043057807&u=https%3A%2F%2Fvisionimpactinstitute.org%2Fpeople%2Fkristan-gross%2F&a=Kristan+Gross) कहते हैं, “हम जानते हैं कि किसी व्यक्ति के बारे में लगभग 90 फीसदी जानकारी तभी मिल पाती है जब गाड़ी चलाने के दौरान उसकी दृष्टि का इनपुट मिलता है। हम कानून निर्माताओं से ड्राइविंग लाइसेंस प्रक्रिया, खासकर व्यावसायिक वाहनों के लिए, के दौरान आंखों की जांच की जरूरत को प्राथमिकता देने की अपील करते हैं।”

 

केंद्रीय सड़क शोध संस्थान द्वारा दिल्ली में 2017 में कराए गए एक अध्ययन के प्रारंभिक नतीजों के मुताबिक, प्रत्येक 10 चालकों (https://c212.net/c/link/?t=0&l=en&o=2364535-1&h=2340044816&u=https%3A%2F%2Fvisionimpactinstitute.org%2Fresearch%2Fassessment-visual-limitations-commercial-drivers-metropolitan-cities-india-interim-report%2F&a=three+in+every+10+drivers) में से कम से कम तीन चालकों की दूर की नजर कमजोर थी जबकि आधे चालकों को निकट दृष्टिदोष पाया गया। हाल के एक और अध्ययन (https://c212.net/c/link/?t=0&l=en&o=2364535-1&h=3684126644&u=https%3A%2F%2Fvisionimpactinstitute.org%2Fresearch%2Fassessment-driver-vision-functions-relation-crash-involvement-india%2F&a=recent+study ) में पाया गया है कि भारत के चालकों में अस्वीकार्य दृष्टि और दुर्घटना के बीच गहरा संबंध है। इन चालकों का सड़कों पर होने वाली टक्करों में 81 फीसदी योगदान रहता है- जो अच्छी दृष्टि वाले चालकों से होने वाली टक्करों की तुलना में 30 फीसदी अधिक रहता है। 

 

ग्रास ने कहा, “सड़क सुरक्षा पर होने वाली चर्चा में जैसाकि होना चाहिए, यह विषय गाड़ी चलाने के दौरान बाधाएं कम करने पर अक्सर केंद्रित रहता है- जिनमें सड़क के गड्ढ़ेभरना, फोन इस्तेमाल से बचना और अल्कोहल के बगैर गाड़ी चलाना शामिल है। सड़क पर कमजोर दृष्टि भी एक बाधा हैक्योंकि चालक और पैदलयात्राी स्पष्ट देखने में सक्षम होने के लिए समायोजन बना सकें। सड़क सुरक्षा के बारे में व्यापक चर्चा और इसी तरह की बातचीत में कमजोर दृष्टि का भी उतना ही महत्व है।” 

 

विजन इम्पैक्ट इंस्टीट्यूट के बारे में 

 

विजन इम्पैक्ट इंस्टीट्यूट का उद्देश्य अच्छी दृष्टि को एक वैश्विक प्राथमिकता देने के लिए दृष्टि सुधार तथा सुरक्षा के महत्व के प्रति जागरूकता बढ़ाना है। इसके सलाहकार बोर्ड में पांच स्वतंत्रा अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञ शामिल हैंः पीआर. केविन फ्रिक (अमेरिका), पीआर. क्लेयर गिल्बर्ट (ब्रिटेन), पीआर. कोविन नायडू (दक्षिण अफ्रीका), अरुण भरत राम (भारत) और डाॅ. वांग वेई (चीन)। 

 

विजन इम्पैक्ट इंस्टीट्यूट एक पंजीकृत 501 (सी)(3) गैर लाभकारी संगठन है जिसे आॅप्थैल्मिक आॅप्टिक्स में वैश्विक प्रमुख एसिलर के विजन फाॅर लाइफ फंड से सहयोग मिलता है। विजन इम्पैक्ट इंस्टीट्यूट एक संवाद वेब प्लेटफाॅर्म, शोध का एक विशेष डाटाबेस रखता है जो यहां उपलब्ध है 



स्रोतः विजन इम्पैक्ट इंस्टीट्यूट 

 


 


संपादक : यह विज्ञप्ति आपको एशियानेट के साथ हुए समझौते के तहत प्रेषित की जा रही है। पीटीआई पर इसका कोई संपादकीय उत्तरदायित्व नहीं है।


 
संपर्क:
मीडिया संपर्क विवरण:
एंड्रिया क्रिस्टन-कोलमैन ग्लोबल कम्युनिकेशंस एंड अवेयरनेस प्रबंधक andrea.kirsten@visionimpactinstitute.org
 Bookmark with:   Delicious |  Digg |  Reditt |  Newsvine
    • arrow  प्रेस विज्ञप्ति
  • pti