21 Sep 2019, 06:17 HRS IST
  • पाकिस्तान ने मोदी के लिए वायु क्षेत्र खोलने का भारत का अनुरोध ठुकराया
    पाकिस्तान ने मोदी के लिए वायु क्षेत्र खोलने का भारत का अनुरोध ठुकराया
    प्रख्यात अधिवक्ता राम जेठमलानी का निधन
    प्रख्यात अधिवक्ता राम जेठमलानी का निधन
    लैंडर ‘विक्रम’ का जमीनी स्टेशन से संपर्क टूटा, प्रधानमंत्री ने कहा- जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं
    लैंडर ‘विक्रम’ का जमीनी स्टेशन से संपर्क टूटा, प्रधानमंत्री ने कहा- जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं
    ‘विक्रम’ की सॉफ्ट लैंडिंग की सभी तैयारियां पूरी
    ‘विक्रम’ की सॉफ्ट लैंडिंग की सभी तैयारियां पूरी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम प्रेस विज्ञप्ति व्याप्त प्रेस विज्ञप्ति
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
  • प्रेस विज्ञप्ति


स्रोत: MPOWER Financing
श्रेणी: General
मैककिन्से के पूर्व छात्र और लेंडटेक के अधिकारी भारतीय महाप्रबंधक के तौर पर एमपावर फाइनेंसिंग में नियुक्त हुए
05/09/2019 2:28:18:450PM

मैककिन्से के पूर्व छात्र और लेंडटेक के अधिकारी भारतीय महाप्रबंधक के तौर पर एमपावर फाइनेंसिंग में नियुक्त हुए


बंगलूरू, भारत, 3 सितंबर, 2019, पीआरन्यूजवायर— एशियानेट।

रणनीति, लोन आॅपरेशन तथा व्यापार विकास में व्यापक अनुभव रखने वाले अधिकारी अश्विनी कुमार को एमपावर फाइनेंसिंग में महाप्रबंधक और इंडिया आॅपरेशन का प्रमुख बनाया गया है। यह एक नवप्रवर्तक फिनटेक कंपनी है जो अमेरिका तथा कनाडा के अंतरराष्ट्रीय छात्रों की उच्च शिक्षा में वित्तीय बाधाएं दूर करने पर केंद्रित है।

कुमार के पास वित्तीय सेवाओं में एक दशक से अधिक समय का अनुभव है। एमपावर में वह भारतीय कारोबार परिचालन को उच्च स्तर पर ले जाने और एशिया में रणनीतिक भागीदारी विकसित करने की जिम्मेदारी निभाएंगे। वह बंगलूरू में एमपावर की टीम के विस्तार के लिए भी काम करेंगे क्योंकि कंपनी विश्व के होनहार छात्रों की मदद के लिए अपनी व्यापारिक और प्रौद्योगिकी अधोसंरचना में निवेश जारी रख रही है। 

अमेरिका में एक अंतरराष्ट्रीय छात्र के नाते कुमार एमपावर के साथ जुड़ने और अपने अनुभवों का साझा करने को लेकर बहुत उत्सुक हैं। उन्होंने कहा, 'जब मैंने अमेरिका में अपना एमबीए पूरा किया, तो एमपावर जैसे वित्तीय सुविधा देने वाले विकल्प मौजूद नहीं थे जहां अनुषंगी या कोसाइनर की जरूरत नहीं पड़ती है। लिहाजा दबाव न सिर्फ मेरे ऊपर बल्कि मेरे परिवार के ऊपर भी बहुत ज्यादा था। एमपावर की अनूठी ऋण सुविधा संरचना ने विश्व के छात्रों के लिए अमेरिका तथा कनाडा के कुछ शीर्ष विश्वविद्यालयों में शिक्षा ग्रहण करना संभव बना दिया, जिससे वित्तीय दबाव बहुत हद तक कम हो पाया और छात्र अपनी शिक्षा तथा कैरियर पर अधिक केंद्रित होने लगे।'

कुमार ने एमबीए करने से पहले भारत में टाटा कंसल्टंसी सर्विस (टीसीएस) में काम किया और अमेरिका में ही अभी अपना कैरियर संवार रहते रहे । इसके बाद उन्होंने ऐस कैश एक्सप्रेस में अपनी वित्तीय सेवा तथा विश्लेषण अनुभवों को विकसित किया जहां उन्होंने कंपनी के ई—कॉमर्स प्लेटफॉर्म के लिए क्रेडिट पॉलिसी तथा विश्लेषण का प्रबंध किया। मैककिन्से एंड कंपनी में उन्होंने रिस्क एडवांस्ड एनालिटिक्स के वैश्विक परिचालन की निगरानी की, इसके बाद कोन्स इंक के लोन आॅपरेशंस को नवगठित करने के बाद वह 2019 में किसी प्रभाव—अभिमुख लेंडटेक स्टार्टअप के साथ काम करने की उम्मीद के साथ भारत लौट आए। कुमार ने कहा, 'यदि मैं टीसीएस जैसी संस्था से अपने कैरियर की शुरुआत नहीं करता तो अमेरिका में 12 साल के अल्प समय के बाद भारत में वापस लौटना मेरे लिए मुश्किल हो जाता। इससे मुझे दोनों देशों के बीच अंतर को पाटने में मदद मिली और मैं स्थानीय स्तर पर वैश्विक भागीदारी का विचार करते हुए भारतीय कंपनियों की मदद कर सका।'

एमपावर फाइनेंसिंग के सीईओ और सह—संस्थापक मनु स्माद्जा ने कहा, 'अश्विनी के पास बढ़ती वित्तीय सेवाओं और टेक्नोलॉजी कंपनियों का सिद्ध ट्रैक रिकार्ड है। वह मजबूत विश्लेषण क्षमता के साथ एक सच्चे जननेता हैं और एमपावर की वैश्विक उपस्थिति बढ़ाने में मदद के लिए उनकी भूमिका अनिवार्य है। कल्पना करें कि यदि प्रत्येक 20 या 30 साल के युवा को अपनी सच्ची शैक्षणिक और प्रोफेशनल क्षमता का इस्तेमाल करने का अवसर मिल जाए तो क्या होगा। यही हमारा नजरिया है और अश्विनी हमें इस लक्ष्य तक पहुंचने में मदद करेंगे।'

कुमार ने भारत में अरुणई इंजीनियरिंग कॉलेज, मद्रास यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की डिग्री ली जबकि यूनिवर्सिटी आॅफ पिट्सबर्ग स्थित जोसेफ एम. कात्ज ग्रैजुएट स्कूल आॅफ बिजनेस से एमबीए किया है।

एमपावर फाइनेंसिंग



का मुख्यालय वाशिंगटन, डीसी में है जबकि इसके कार्यालय बंगलूरू, न्यूयॉर्क सिटी और टोरंटो में है और यह एक लक्ष्य संचालित फिनटेक कंपनी तथा वैश्विक शिक्षा ऋण देने वाली कंपनी है। विश्व में यह छात्रों को ऋण देने वाली एकमात्र ऐसी कंपनी है जो अत्यंत होनहार अंतरराष्ट्रीय और डीएसीए छात्रों को सेवा देने के लिए विदेशों और घरेलू क्रेडिट डाटा का इस्तेमाल करती है और साथ भविष्य में अर्जन की संभावना टटोलती है। एमपावर फाइनेंसिंग अमेरिका तथा कनाडा में 350 शीर्ष विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के साथ काम करती है ताकि 200 देशों के छात्रों की वित्तीय मदद की जा सके। वर्ष 2014 से इसने अपने प्लेटफॉर्म पर 2 अरब डॉलर के लोन आवेदन प्राप्त कर लिए हैं। एमपावर फाइनेंसिंग छात्रों को उनकी क्रेडिट हिस्ट्री निर्मित करने में मदद करती है और उन्हें स्कूल के बाद जीवन संवारने में मदद के लिए व्यक्तिगत फाइनेंस शिक्षा और कैरियर सहयोग करती है। इस टीम को जेफर मैनेजमेंट, गोल स्ट्रक्चर्ड सॉल्यूशंस, ग्रे मैटर्स कैपिटल, लॉयड क्रेसेंडो एडवायजर्स, 1776, विलेज कैपिटल, पोटेंशिया, ब्रीगा, वैरिव, ड्रीमइट, फ्रेस्को, चिलांगो, कॉमन सेंस फंड, के स्ट्रीट और यूनिवर्सिटी वेंचर्स का सहयोग मिला हुआ है।

स्रोत: एमपावर फाइनेंसिंग

संपादक : यह विज्ञप्ति आपको एशियानेट के साथ हुए समझौते के तहत प्रेषित की जा रही है। पीटीआई पर इसका कोई संपादकीय उत्तरदायित्व नहीं है।

संपर्क:
मीडिया संपर्क विवरण:
साशा रमानी, 1 202 417 3800, sasha@mpowerfinancing.com
 Bookmark with:   Delicious |  Digg |  Reditt |  Newsvine
    • arrow  प्रेस विज्ञप्ति
  • pti