14 Apr 2021, 22:30 HRS IST
  • दस राज्यों में रोजाना बढ़ रहे हैं कोविड-19 के नये मामले
    दस राज्यों में रोजाना बढ़ रहे हैं कोविड-19 के नये मामले
    त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब कोरोना वायरस से संक्रमित
    त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब कोरोना वायरस से संक्रमित
    मुकेश अंबानी एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति : फोर्ब्स
    मुकेश अंबानी एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति : फोर्ब्स
    दीदी को तिलक लगाने वालों,भगवा कपड़े पहनने वालों से दिक्कत: मोदी
    दीदी को तिलक लगाने वालों,भगवा कपड़े पहनने वालों से दिक्कत: मोदी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम प्रेस विज्ञप्ति व्याप्त प्रेस विज्ञप्ति
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
  • प्रेस विज्ञप्ति


स्रोत: Amadeus and Amadeus Labs
श्रेणी: General
यात्राएं फिर से शुरू करने के लिए भारतीय प्रवासी, 'डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट' अपनाने को तैयार
07/04/2021 8:21:27:570PM

यात्राएं फिर से शुरू करने के लिए भारतीय प्रवासी, 'डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट' अपनाने को तैयार


   •  अमाडेयस द्वारा आयोजित और सेंससवाइड द्वारा किए गए अध्ययन में न केवल उद्योग जगत बल्कि सभी प्रवासियों के लिए अच्छी खबर आई है, जिसमें बताया गया है कि प्रतिबंधों में ढील दिए जाने के बाद छह सप्ताह के अंदर, 41% के वैश्विक औसत के मुकाबले 47% भारतीय प्रवासी, अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं के लिए बुकिंग कराने के लिए उत्सुक हैं।

  •   93% उत्तरदाताओं ने भावी यात्राओं के लिए डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट उपयोग करने को सुविधाजनक बताया।


बेंगलुरु, भारत, 7 अप्रैल 2021 /PRNewswire/ -- सरकारों और यात्रा उद्योग द्वारा डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट के फायदों की पड़ताल किए जाने के साथ, भारतीय प्रवासियों की ओर से संदेश स्पष्ट है: डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट, फिर से यात्राओं की शुरूआत के लिए एक महत्त्वपूर्ण उपाय साबित हो सकते हैं। अध्ययन में पाया गया कि 93% भारतीय प्रवासी भावी यात्राओं के लिए डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट का उपयोग करना सुविधाजनक महसूस करेंगे, क्योंकि यात्राएं करने की इच्छाएं जबरदस्त हैं, और लगभग आधे (47%) लोगों ने कहा कि वे प्रतिबंधों में ढील दिए जाने के बाद छह सप्ताह के अंदर अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं के लिए बुकिंग कराने के लिए उत्सुक हैं। इसके अलावा, अध्ययन में यह पाया गया कि पिछली तीन तिमाहियों के दौरान, 79% of भारतीय प्रवासी अपने प्रवासी हेल्थ डाटा को इलेक्ट्रॉनिक तरीके से स्टोर किए जाने के लिए सहमत थे, यदि इससे उनको जल्दी यात्रा करने की सुविधा मिले और अगर इससे उनको अन्य लोगों से कम से कम आपसी संपर्क के साथ एयरपोर्ट पर से गुजरने की सुविधा मिल सके।

इस अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन में, जिसमें कि भारत से 1,000 से अधिक उत्तरदाताओं को शामिल किया गया, यह बताया गया कि डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट की योजनाओं पर तेजी से काम करने के लिए प्राधिकारियों और बिजनेसों के लिए पर्याप्त प्रोत्साहन मौजूद है।  वास्तव में, 57% ने कहा कि वे डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट को सामान्य नियम बना दिए जाने पर संतुष्ट रहेंगे।

डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट को लेकर जबरदस्त अनुकूल प्रतिक्रियाओं के बावजूद, आगे पूछताछ किए जाने पर उन्होंने सुरक्षा और गोपनीयता को लेकर चिंताएं व्यक्त कीं, जैसे कि:

  •    34% उत्तरदाताओं ने डाटा सुरक्षा जोखिमों के बारे में चिंता जताते हुए कहा कि उनकी निजी जानकारी गैरकानूनी तरीके से उपलब्ध कराई जासकती है।

    •  28% उत्तरदाताओं ने इस बारे में पारदर्शिता और नियंत्रण के अभाव को लेकर चिंता जाहिर की, कि उनका डाटा कैसे और कहां साझा किया जाएगा।

यह दिलचस्प है कि डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट को लेकर सर्वाधिक हिचकिचाहट युवाओं में पाई गई, जिनमें से 12% ने कहा कि उनके लिए किन्हीं भी परिस्थितियों में डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट का उपयोग करना सुविधाजनक नहीं रहेगा।

यात्रा उद्योग को, डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट से जुड़ी निजता संबंधी चिंताओं की पड़ताल करते हुए इन्हें दूर करने के प्रयास करने होंगे और प्रवासियों का भरोसा कायम करना होगा, जिसके लिए इस सर्वेक्षण में पाया गया कि:

  •   आधे से अधिक भारतीय प्रवासी (53%) डिजिटल पासपोर्ट का उपयोग करना सुविधाजनक महसूस करेंगे, अगर यह अधिकांश देशों में स्वीकार किया जाए और अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुसार नियमित हो।

  •   10 में से 8 (80%) हेल्थ डाटा को सुरक्षित ऐप पर स्टोर करना अधिक पसंद करेंगे, जहां प्रवासी प्रोवाइडर ने किसी भरोसेमंद हेल्थकेयर प्रोवाइडर से साझेदारी की हो।

हालांकि डाटा की साझेदारी को लेकर स्वीकार्यता अधिक थी, लेकिन अगले 12 महीनों में यात्रा के लिए आत्मविश्वास बढ़ाने वाली तकनीकों के बारे में पूछे जाने पर, मोबाइल समाधानों को एक लोकप्रिय विकल्प के रूप में रेखांकित किया गया, जिसके साथ दिए गए सुझावों में निम्न शामिल थे:

   •  यात्राओं के दौरान सूचनाएं और चेतावनियां प्रदान करने वाले मोबाइल ऐप्लिकेशन (51%)

   •  संपर्करहित मोबाइल भुगतान (49%)

   •  चेहरा पहचानने की टेक्नोलॉजी (48%)

   •  मोबाइल पर बोर्डिंग पास (47%)

मणि गणेशन, हेड R&D, APAC, अमाडेयस, ने इस संबंध में अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि, "वैश्विक महामारी से बिजनेसों के उबरने के साथ, यात्रा का भविष्य उज्ज्वल दिखता है।  यह अध्ययन, ऐसी तकनीकों की स्वीकार्यता प्रमाणित करते हुए उद्योग जगत के लिए एक स्पष्ट रोडमैप प्रदान करता है, जो सूचनाओं तक बेहतर पहुंच से लेकर प्रवासी संपर्क कम करने तक से संबंधित प्रवासियों की चिंताओं के समाधान कर सकें। डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट जैसे नए कदम, एक बार फिर से प्रवासियों का विश्वास बहाल कर सकते हैं और अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं को फिर से खोले जाने की प्रक्रिया को भी प्रोत्साहित कर सकते हैं। दुनिया में तेज गति से अभूतपूर्व डिजिटल रूपांतरण के साथ, यात्रा के अनुकूल अत्याधुनिक ऐप, विश्वस्तर पर तथा भारत में प्रवासियों का जरूरी भरोसा बहाल करने में मदद करेंगे।"

क्रिस्टोफ बूसके, CTO, अमाडेयस, ने अपनी टिप्पणी करते हुए बताया कि, "यह अध्ययन, यात्राओं को फिर से बहाल करने में टेक्नोलॉजी द्वारा निभाई जाने वाली प्रमुख भूमिका पर जोर देता है। हमने अपने पिछले सर्वेक्षण की तुलना में इस बार बदलाव देखा है, क्योंकि अब प्रवासी, मोबाइल और संपर्करहित टेक्नोलॉजी पर अधिक केंद्रित हैं, जो कि प्रवासियों का भरोसा स्पष्ट रूप से मज़बूत बनाने वाले महत्त्वपूर्ण क्षेत्र हैं। यह देखना भी काफी प्रासंगिक है कि अब प्रवासी, अपनी यात्राएं करने के लिए डिजिटल हेल्थ पासपोर्ट, तथा अपना डाटा साझा किए जाने के पक्ष में हैं, बशर्ते की समुचित सुरक्षा उपायों को ढंग से लागू किया जाए। अमाडेयस में, हम अपने ग्राहकों और साझेदारों के साथ मिलकर बेहतर उद्योग का पुनर्निर्माण करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।"

यात्रा उद्योग को किस तरह से नए सिरे से विकसित किया जा सकता है, इस बारे में अधिक जानकारी के लिए अमाडेयस जो कि प्रवासीटेक्नोलॉजी के मामले में वैश्विक अग्रणी कंपनी है, ने डिजिटल हेल्थ डाटा के बारे में प्रवासियों की प्रमुख चिंताओं, उनका डाटा साझा किए जाने और स्टोर किए जाने से संबंधित उनकी सहजता के स्तर, और भविष्य में यात्रा के लिए उनकी चिंताएं दूर करने के लिए उपयोगी समाधानों के बारे में अधिक जानकारी के लिए अनुसंधान आयोजित किया।

यह अनुसंधान, प्रवासियों पर सर्वेक्षणों की सीरीज़ में दूसरा है, जिसे अमाडेयस ने प्रवासियों के रूझानों और चिंताओं को समझने के लिए नियमित रूप दिया हुआ है ताकि यात्रा का नए सिरे से विकास करने में उद्योग जगत को सबसे प्रभावी ढंग से मदद मिल सके। 2020 रिथिंक प्रवासी सर्वेक्षण में मालूम चला कि प्रवासियों का विश्वास बढ़ाने में टेक्नोलॉजी किस तरह मदद कर सकती है, और अमाडेयस ने यह पता लगाने के लिए इस प्रश्न को फिर से चर्चा में रखा कि सितम्बर 2020 से प्रवासियों के विश्वास में कितना परिवर्तन आया है। अब विश्वस्तर पर 91% प्रवासियों ने बताया कि टेक्नोलॉजी से यात्राओं में उनका विश्वास बढ़ेगा, यह सितम्बर 2020 के 84% के आंकड़े से अधिक है।.

2021 के सर्वेक्षण के परिणामों के बारे में अधिक जानने के लिए, नीचे दिए गए लिंकों के माध्यम से हमारी ग्लोबली और कंट्री रिपोर्टें और इन्फोग्राफिक्स पढ़ें।

अनुसंधान विधि

COVID-19 को दृष्टिगत रखते हुए यात्राओं का नए सिरे से विकास करने में मदद के लिए डिजिटल हेल्थ डाटा और टेक्नोलॉजी के बारे में प्रवासियों के रूझान समझने के लिए, सेंससवाइड नामक वैश्विक अंतदृष्टि प्रेरित अनुसंधान फर्म द्वारा फरवरी 2021 के आखिर में इस सर्वेक्षण का आयोजन किया गया। इसके निष्कर्ष, फ्रांस, जर्मनी, स्पेन, UAE, रूस, भारत, सिंगापुर, UK और US के, पिछले 18 महीनों में कोई विदेश यात्रा करने वाले 9055 उत्तरदाताओं पर (प्रति बाज़ार कम से कम 1000 उत्तरदाताओं के साथ) आधारित थे। फील्डवर्क का कार्य 18 से 26 फरवरी 2021 के बीच किया गया। सेंससवाइड, ESOMAR सिद्धांतों पर आधारित मार्केट रिसर्च सोसाइटी के नियमों का पालन करती है और इसके सदस्य नियुक्त हैं। संदर्भ के लिए: जेनरेशन Z = 16-24 वर्ष आयु; मिलेनियल= 25-39 वर्ष आयु; जेनरेशन X = 40-54 वर्ष आयु; बूमर्स= 55-74 वर्ष आयु; 75+ साइलेंट जेनरेशन

अमाडेयस और अमाडेयस लैब्स के बारे में

यात्राएं, प्रगति को ऊर्जा देती हैं। अमाडेयस यात्राओं को ऊर्जा देता है। अमाडेयस' के समाधान, प्रवासी एजेंटों, सर्च इंजनों, टूर ऑपरेटरों, एयरलाइनों, एयरपोर्टों, होटलों, कारों और रेलवे के माध्यम से प्रवासियों को उनकी मनचाही यात्राओं से जोड़ते हैं। 30 वर्षों से अधिक समय से यात्रा उद्योग की साझेदारी में हमने अपनी टेक्नोलॉजी विकसित की है। हमारे ग्राहकों की ज़रूरतों के अनुसार सबसे जटिल, भरोसेमंद, महत्त्वपूर्ण प्रणालियां डिजाइन करने और डिलीवर करने की क्षमता के साथ हम लोगों की यात्रा करने संबंधी आकांक्षाओं की गहरी समझ रखते हैं। एक वर्ष में हम 190 से अधिक देशों में 1.6 बिलियन से भी अधिक लोगों को लोकल प्रवासी प्रोवाइडरों से संपर्क करने में मदद करते हैं। हम वैश्विक मानसिकता वाली ऐसी कंपनी हैं, जो हर कहीं स्थानीय रूप से मौजूद है, जहां भी हमारे ग्राहकों को हमारी ज़रूरत है।  यात्रा के भविष्य को आकार देना हमारा उद्‌देश्य है। बेहतर यात्राएं संभाव बनाने वाली बेहतर टेक्नोलॉजी की दिशा में हम प्रेरित हैं। अमाडेयस IBEX 35 कंपनी है जो AMS.MC के अंतर्गत स्पेनिशन स्टॉक एक्सचेंज पर सूचीबद्ध है।  

अमाडेयस लैब्स को एशिया-प्रशांत क्षेत्र में अमाडेयस की इंजीनियरिंग और R&D गतिविधियां विस्तृत करने के लिए बेंगलुरू में स्थापित किया गया था। इस समय विश्वस्तर पर अमाडेयस की दूसरी सबसे बड़ी इंजीनियरिंग और R&D साइट अमाडेयस लैब्स बेंगलुरू, विश्वस्तर पर उत्पाद विकास में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

हमारा यहां अनुसरण करेंफेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर, लिंक्डइ

अमाडेयस के बारे में अधिक जानकारी के लिए देखें www.amadeus.com

(संपादक : यह विज्ञप्ति आपको पीआरन्यूजवायर के साथ हुए समझौते के तहत प्रेषित की जा रही है। पीटीआई पर इसका कोई संपादकीय उत्तरदायित्व नहीं है।)

संपर्क:
मीडिया संपर्क विवरण:
 Bookmark with:   Delicious |  Digg |  Reditt |  Newsvine
    • arrow  प्रेस विज्ञप्ति
  • pti