01 Dec 2021, 20:38 HRS IST
  • चारबाग रेलवे स्टेशन पर यात्री
    चारबाग रेलवे स्टेशन पर यात्री
    मोरीगांव : सरसों के खेत
    मोरीगांव : सरसों के खेत
    बिहार विधानसभा शीतकालीन सत्र
    बिहार विधानसभा शीतकालीन सत्र
    चेन्नई में बारिश के बाद बाढ़
    चेन्नई में बारिश के बाद बाढ़
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम प्रेस विज्ञप्ति व्याप्त प्रेस विज्ञप्ति
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
  • प्रेस विज्ञप्ति


स्रोत: American Association of Kidney Patients
श्रेणी: General
वैश्विक किडनी इनोवेशन सम्मेलन ने अंतरराष्ट्रीय संगठन को गति दी
25/09/2021 11:07:18:757AM
वैश्विक किडनी इनोवेशन सम्मेलन ने अंतरराष्ट्रीय संगठन को गति दी

वाशिंगटन, 18 सितंबर, 2021, पीआरन्यूजवायर—एशियानेट।

— मरीजों की जरूरत और विशेष जानकारी वैश्विक किडनी शोध, खोज और व्यक्तिगत इलाज का नया युग गढ़ती है।

अमेरिका का सबसे बड़ा स्वतंत्र किडनी मरीज संगठन किडनी मरीजों का अमेरिकी संगठन (एएकेपी) और जॉर्ज वाशिंगटन यूनिवर्सिटी (जीडब्ल्यू) स्कूल आॅफ मेडिसिन एंड हेल्थ साइंसेज (एसएमएचएस) में इसके रणनीतिक भागीदार किडनी रोगों से अंतरराष्ट्रीय मुकाबले में खास प्रभाव बनाना जारी रखेंगे। किडनी रोग नवाचारों पर उनका 2021 का सालाना वैश्विक सम्मेलन मरीज उपभोक्ता विकल्पों को विस्तार देने तथा उन्नत स्वास्थ्य परिणाम पर केंद्रित रहा, 80 देशों के 20,000 से ज्यादा दर्शकों को इसमें शामिल किया गया, कोविड—19 महामारी के चरम पर उनके 2020 वर्चुअल उपस्थिति रिकार्ड से आगे रहा तथा उनके आॅनलाइन कंटेट



में वैश्विक दर्शकों को आकर्षित करना जारी रखा गया। अमेरिकी और अंतरराष्ट्रीय नीति निर्धारकों को मरीज निर्धारित प्राथमिकताओं पर आधारित किडनी रोगों के विनाशकारी मानवीय और सामाजिक नुकसान से बेहतर तरीके से निपटने में मदद के लिए वैश्विक सम्मेलन एएकेपी के किडनी दशक (टीएम)



2020—2030 दशक के लिए 2019 में शुरू हुई एएकेपी वैश्विक मुहिम (लेख पढ़ें



का मुख्य हिस्सा है।

लोगो— https://mma.prnewswire.com/media/596158/AAKP_Logo.jpg

वैश्विक सम्मेलन ने मरीज उपभोक्ताओं और वकीलों के नेतृत्व में प्रभावशालियों के अंतरराष्ट्रीय समूह के विस्तार को गति दी है जो अधिक समावेशी क्लिनिकल ट्रायर, मरीज से जुड़े डाटा का अधिकतम इस्तेमाल, व्यक्तिगत चिकित्सा और कृत्रिम प्रत्यारोपण योग्य और वहन योग्य किडनी समेत चमत्कारी टेक्नोलॉजी द्वारा चिह्नित किडनी चिकित्सा में नया युग  लाने के लिए प्रतिबद्ध है। मरीज के नेतृत्व वाले कंसोर्टियम में पूरी दुनिया के चयनित एवं नियुक्त सरकारी प्रमुखों के साथ—साथ शैक्षणिक और चिकित्सकीय शोध, क्लिनिकल ट्रायल डिजाइनर, नवोन्मेषक, पूंजी बाजार निवेशक, कंपनियां, गैर सरकारी तथा विश्वस्त संगठन शामिल हैं। विश्व के किडनी मरीज उच्च मृत्यु दर बढ़ने का बड़ा कारण बने पुराने डायलिसिस केयर को हटाने और किडनी रोगों की शुरुआती चरण में जांच, बचाव और उपचार की मांग कर रहे हैं तथा जीवन की गुणवत्ता सुधारने वाले तरीके खोजने और निर्भरता एवं रोग संबंधी बेरोजगारी कम करने की भी मांग कर रहे हैं। वे अधिक साझा संवेदी नियामक और भुगतान सुधारों को बढ़ाने के लिए परिष्कृत प्रयासों के तहत अपनी नीति और जमीनी प्रयासों का आयोजन और समन्वय भी कर रहे हैं जिससे मरीजों की जरूरतों को प्राथमिकता मिल सके और वैश्विक उपभोक्ता बाजार में नए, सुरक्षित उत्पादों के समयबद्ध प्रवेश को पूर्ण सहयोग मिल सके। ग्लोबल समिट में आगामी सफलता और तेजी से बढ़ती दिलचस्पी पर आधारित एएकेपी और जीडब्ल्यूयू ने किडनी डिजीज इनोवेशंस



पर मई 2022 ग्लोबल समिट के लिए पूर्व—पंजीकरण शुरू कर चुके हैं। 2021 ग्लोबल समिट की सभी वर्चुअल प्रस्तुतियां एएकेपी वेबसाइट



और एएकेपी यूट्यूब चैनल



के जरिये आॅन डिमांड उपलब्ध हैं।

जॉर्ज वाशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल आॅफ मेडिसिन एंड हेल्थ साइंसेज में मेडिसिन, बायोकेमेस्ट्री तथा जेनेटिक्स और बायोस्टैटिस्टिक एवं एपिडेमियोलॉजी के प्रोफेसर तथा किडनी डिजीजेज एंड हाइपरटेंशन विभाग के निदेशक ग्लोबल समिट के सह—अध्यक्ष डॉ. डोमिनिक राज ने कहा, 'आण्विक बायोलॉजी तथा जेनेटिक्स में शोधार्थी के तौर पर मैं जीन और आण्विक तरीके से व्यक्तिगत दवाई बनाना चाहता हूं लेकिन मैं समझता हूं कि मरीजों की जरूरतों के मुताबिक व्यक्तिगत बनाने के लिए यह ज्यादा महत्वपूर्ण है। मैं समझता हूं कि यह ग्लोबल समिट का संदेश घर ले जाने के लिए महत्वपूर्ण है और विश्व में अपने उन सहयोगियों पर मुझे बहुत गर्व है जो किडनी रोगों के बढ़ते प्रसार को रोकने और इसके इलाज की नई पद्धतियों पर शोध एवं अपनी खोज में किडनी मरीजों की खास जानकारी सक्रियता से इसमें शामिल कर रहे हैं।'

यूरोपीय संसद सदस्य (एमईपी), एमईपी किडनी हेल्थ अध्यक्ष तथा कमेटी आॅन फॉरेन अफेयर्स फॉर ए रिन्यू यूरोप (ईयू) की उप संयोजक हिल्दे वाउटमैन्स ने वर्चुअल प्रस्तुति



दी जिसमें उन्होंने किडनी रोगों से मुकाबले के लिए सरकार के नेताओं के साथ काम करने के लिए किडनी मरीजों के प्रयासों की सराहना की है। इसके अलावा वाउटमैन्स ने अमेरिकी कांग्रेसनल किडनी काउकस के समान विचारधारा वाले सदस्यों के बीच यूरोपीय संसद तथा अमेरिकी कांग्रेस में चयनित प्रमुखों को अधिकतम सहयोग के लिए आमंत्रित किया और कहा, 'यह कठिन लड़ाई है। और मैं यहां अनुभव बताना चाहती हूं, लेकिन (—) बदलाव संभव है (—) लेकिन हम अधिक कार्यवाही कर सकते हैं और हमारे पास बहुत कुछ है। यूरोप में ही नहीं बल्कि अमेरिका में भी। मैं हमेशा कहती हूं कि हमें अधिक जागरूक होने की जरूरत है, अधिक वित्तपोषण तथा अधिक नवाचार की जरूरत है। आज मैं इसमें चौथा तत्व भी जोड़ना चाहती हूं और यह सहयोग है क्योंकि हम सभी जानते हैं और इसके गवाह हैं कि रोगों की कोई सीमा नहीं होती। लिहाजा, हमें मिलकर काम करना होगा (—), हमें अटलांटिक के दोनों तरफ साझा लक्ष्य तय करना होगा: हम निश्चित रूप से किडनी रोग से पीड़ित लोगों का जीवन सुधार सकेंगे।'

2021 ग्लोबल समिट में 15 से अधिक पैनल शामिल किए गए जिनमें 40 से अधिक मरीज और चिकित्सा विशेषज्ञ और कोविड—19 किडनी संबंधी समस्याओं, क्लिनिकल ट्रायल में विविधता, एपीओएल—1 जेनेटिक शोध, डायबिटिक किडनी रोग (डीकेडी), पोषाहार एवं टेलीमेडिसिन को शामिल करते हुए 29 विशेषज्ञ वीडियो का मेन्यू भी थे। किडनी क्षेत्र की शीर्ष कंपनियों के अधिकारियों ने विज्ञान, खोज तथा नई दवाओं, डिवाइस एवं डायग्नोसिस के विकास में मरीजों की जानकारी के महत्व एवं मूल्य को रेखांकित किया। नए युग की किडनी चिकित्सा में मरीज महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं, इस पर जोर देने वालों में बेयर फार्मास्यूटिकल्स, बैक्सटर इंटरनेशनल इंक, बायोमेरियक्स, केयरडीएक्स, इंक., सीएसएल बेहरिंगर, नोवार्टिस और संगामो थेराप्यूटिक्स के प्रमुख शामिल थे। उन्हें जीडब्ल्यू स्कूल आॅफ मेडिसिन एंड हेल्थ साइंसेज के डीन और जीडब्ल्यू मेडिकल फैकल्टी एसोसिएट्स (यूएसए) के सीईओ, स्वास्थ्य मामलों के उपाध्यक्ष बारबरा एल. बास, एमडी, एमबीबीएस, एमउी, डीएम, पीएचडी, एफआरसीपी, एफएएमएस विवेकानंद झा, जॉर्ज इंस्टीट्यूट फॉर ग्लोबल हेल्थ (एयू) के कार्यकरी निदेशक और इंटरनेशनल सोसायटी आॅफ नेफ्रोलॉजी (आईएनडी) के अध्यक्ष, फोक्को वियरिंगा, पीएचडी, प्रमुख वैज्ञानिक, आईएमईसी आॅफ द नीदरलैंड एवं डच किडनी फाउंडेशन (ईयू) और किडनी हेल्थ इनिशिएटिव (यूएसए) के सदस्य, मरे शेल्डन, एमडी, टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशंस में एमडी, निदेशक, सेंटर फॉर डिवाइसेज एंड रेडियोलॉजिकल हेल्थ, यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (यूएसए), जैक कलावृतिनस, संस्थापक एवं प्रमुख, जेके कंसल्टिंग एवं एपको वर्ल्डवाइड इंटरनेशनल एडवायजरी काउंसिल तथा हेल्थ एडवायजरी बोर्ड (यूएसए) के सदस्य के साथ जोड़ा गया।

अमेरिकन एसोसिएशन आॅफ किडनी पेशेंट्स के अध्यक्ष और पूर्व में हीमोडायलिसिस के मरीज तथा 14 साल की उम्र में किडनी ट्रांसप्लांट करा चुके रिचर्ड नाइट ने कहा, 'किडनी रोग एक विनाशकारी रोग है जो तेजी से बढ़ता जाता है और पूरी दुनिया के मरीजों, परिवारों और अर्थव्यवस्था पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। किडनी चिकित्सा में भविष्य के नवाचार संपूर्ण समावेशी क्लिनिकल ट्रायल एवं शोध के जरिये मरीजों की अधिकतम संलग्नता पर निर्भर करते हैं और जीडब्ल्यू स्कूल आॅफ मेडिसिन एंड हेल्थ साइंसेज इस क्षेत्र में एक स्थापित वैश्विक प्रमुख है। मैं डीन डॉ. बारबरा बास, डॉ. डोमिनिक राज और हमारे नए यूरोपीय संघ सहयोगी हिल्दे वाउटमैन्स का मरीजों के लिए गहरा सम्मान एवं सभी तरह के किडनी रोगों से लड़ाई में मरीजों, क्लिनिशियनों तथा नीति निर्माताओं को एकजुट करने के लिए आभार व्यक्त करता हूं।' नाइट (सीजेएएसएन लेख पढ़ें



पूर्व अमेरिकी कांग्रेसनल स्टाफ और बिजनेस कंसल्टेंट हैं जिन्होंने नेशनल इंस्टीट्यूट्स आॅफ हेल्थ (एनआईएच), नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ डायबिटीज एंड डायजेस्टिव एंड किडनी डिजीज (एनआईडीडीके) एडवायजरी काउंसिल में सेवाएं दी है और कम्युनिटी एंगेजमेंट कमेटी फॉर द किडनी प्रेसिशन मेडिसिन प्रोजेक्ट (केपीएमपी) के सह अध्यक्ष हैं।

ग्लोबल समिट के सह अध्यक्ष और एएकेपी में नीति एवं वैश्विक मामलों के अध्यक्ष पॉल टी. कॉनवे पूर्व पेरिटोनियल डायलिसिस मरीज हैं और 24 वर्ष की उम्र में किडनी ट्रांसप्लांट करा चुके हैं। उन्होंने कहा, 'एएकेपी तथा हमारे मित्र और सहयोगी डॉ. डोमिनिक राज ग्लोबल समिट आॅन किडनी इनोवेशंस को एक खास अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम के तौर पर देखते हैं जिसका लक्ष्य मरीजों, शोधकर्ताओं, क्लिनिशियनों एवं नीति पेशेवरों के बीच सहयोग बढ़ाना है। किडनी मरीज से जुड़े वैश्विक उपभोक्ता अधिकतम देखभाल का विकल्प मांगते हैं और इसके हकदार हैं और आगामी पीढ़ी की डायग्नोस्टिक्स, डिवाइस एवं बायोलॉजिक्स के शीर्ष विकास के लिए भागीदारों के तौर पर निर्मित मूल्य के प्रति वाकिफ हैं। एएकेपी ने नवाचार को आगे बढ़ाने तथा उन सभी को समर्थन देने के लिए वैश्विक स्तर पर मरीजों के समूहों के साथ हमारी साझेदारी का विकास किया है जो सीमित देखभाल विकल्प से जुड़े विधायी, नियामक एवं भुगतान बाधाओं को हटाने तथा वैश्विक उपभोक्ता बाजार में नए, सुरक्षित इलाजों के प्रवेश में देरी को खत्म करने के लिए हमारी अनिवार्यता की अनुभूति का साझा करते हैं और इरादा रखते हैं।' कॉनवे (पढ़ें सीजेएएसएन लेख



यूएस डिपार्टमेंट आॅफ लेबर के पूर्व चीफ आॅफ स्टाफ हैं और नेशनल इंस्टीट्यूट्स आॅफ हेल्थ (एनआईएच), नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ डायबिटीज एंड डायजेस्टिव एंड किडनी डिजीजेज (एनआईडीडीके), किडनी प्रेसिशन मेडिसिन प्रोजेक्ट (केपीएमपी), अमेरिकन बोर्ड आॅफ इंटरनल मेडिसिन्स नेफ्रोलॉजी स्पेशियल्टी बोर्ड के बाह्य विशेषज्ञ पैनल में सेवाएं देते हैं तथा अमेरिकन सोसायटी आॅफ नेफ्रोलॉजी के द क्लिनिकल जर्नल के पेशेंट व्वाइस एडिटर हैं।

एएकेपी की द ग्लोबल समिट, द डिकेड आॅफ द किडनी (टीएम) और बढ़ते अंतरराष्ट्रीय किडनी नवाचार संगठन के सहयोग समेत कई अंतरराष्ट्रीय किडनी मरीज संगठनों के साथ भागीदारी है जिनमें शामिल हैं: अर्जेंटीना स्थित एसोसिएशन सॉलिडेरिया डी इन सफिशिएंट्स रेनल्स (एएसआईआर)


यूरोपियन किडनी पेशेंट्स फेडरेशन (ईकेपीएफ) और यूरोपियन किडनी हेल्थ अलायंस (ईकेएचए)


तथा यूनाइटेड किंगडम स्थित रेनल पेशेंट सपोर्ट ग्रुप




। एएकेपी 2021 के बचे दौर और 2022 में कई अन्य वैश्विक भागीदारी की घोषणा करेगा। एएकेपी के प्रमुख और उनके वैश्विक सहयोगियों ने यूनिवर्सिटी आॅफ वाशिंगटन के सेंटर फॉर डायलिसिस इनोवेशन के हालिया आइडियाज समिट समेत वैश्विक फोरम में ग्लोबल समिट के मुख्य संदेशों का वहन किया है जहां अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के डॉ. मरे शेल्डन ने अंतरराष्ट्रीय किडनी नवाचार कंसोर्टियम



के विस्तार पर प्रस्तुति का संचालन किया है। ग्लोबल समिट और अंतरराष्ट्रीय किडनी नवाचार कंसोर्टियम के मुख्य ज्ञान और संदेशों पर आगामी प्रस्तुति 24—25 सितंबर, 2021 को एएकेपी सालाना राष्ट्रीय मरीज बैठक



और अमेरिकन सोसायटी आॅफ नेफ्रोलॉजी, 2021 किडनी वीक



4—7 नवंबर, विश्व के सबसे बड़े किडनी प्रोफेशनल सम्मेलन में की जाएगी। एएकेपी की विस्तारित वैश्विक भागीदारी तथा अंतरराष्ट्रीय सहयोग को समर्थन देने वालों में शामिल हैं:

किडनी मरीज और रिपब्लिक आॅफ आयरलैंड में एएकेपी के ग्लोबल एंबेसडर कोम क्लिफोर्ड ने कहा: 'जब सामूहिक आवाज कोई ठोस संदेश देता है तो बदलाव आता है और यही बदलाव जरूरी है। यह जमीनी स्तर से शुरू होता है। हालांकि इस पर सिर्फ एक कलम का हस्ताक्षर होता है लेकिन यह एक ठोस सामूहिक आवाज बन जाती है जिसकी अनदेखी नहीं की जा सकती और यह अपने लक्ष्य तक पहुंच जाती है। ग्लोबल समिट के बाद मुझे पूरा विश्वास है कि किडनी रोग में हम सचमुच आगे बढ़ रहे हैं और इसके साथ जुड़ने का यह रोमांचकारी क्षण है।'

यूरोपियन किडनी पेशेंट्स फेडरेशन (ईकेपीएफ) के अध्यक्ष डेनियल गैलेगो ने कहा, 'हमें बहुत खुशी है कि एएकेपी वैश्विक स्तर के किडनी मरीजों के सहयोग को मजबूती देने के लिए हमारे पास पहुंचा है ताकि यह नवाचार और नई उपचार पद्धतियों को वास्तव में बढ़ावा दे सके जिससे किडनी मरीजों के जीवन की गुणवत्ता बढ़ सके और हमारी रोजमर्रा की गतिविधियों को विस्तार देने में यह सहयोग कर सके। ईकेपीएफ का गहरा विश्वास है कि इन उपचार पद्धतियों को विकसित करने में मरीजों को शामिल किया जाना चाहिए और अगले स्तर की उपचार पद्धतियों तक इसे पहुंचाने के लिए वे अगुआ बनेंगे। साथ मिलकर हम एक ऐसा प्लेटफॉम बना एवं विकसित कर सकते हैं जो दीर्घकालिक नवाचार के लिए जिम्मेदार बने जिसका किडनी मरीज लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं।'

यूरोपियन किडनी हेल्थ अलायंस (ईकेएचए) के अध्यक्ष रेमंड वैनहोल्डर ने कहा, 'किडनी उपचार में सुधार के लिए साझेदारी से सीमाएं हटने का वाकई बड़ा लाभ मिल सकता है। हमें एएकेपी के साथ भागीदारी करते हुए अपने अंतरराष्ट्रीय सहयोग को विस्तार देने पर बहुत खुशी है ईकेएचए में हम जहां कहीं संभव हो सके जीवन की गुण्वत्ता को बढ़ाने के लिए मरीजों को सशक्त बनाने में यकीन करते हैं। लिहाजा हमने किडनी मरीजों की विशेष जरूरतों से जुड़ी जागरूकता बढ़ाने के लिए उनके 'डिकेड आॅफ द किडनी' प्रोग्राम को अपनाया है। इस भागीदारी का एक अहम हिस्सा ईयू और यूएसए के स्तर पर राजनीतिक एजेंडा तय करने का अस्तित्व रखेगा ताकि वास्तविक नवाचार उपचार पद्धतियों को आगे बढ़ाया जा सके और इन्हें जमीन पर लाने के लिए परस्पर फंडिंग मिल सके।'

अर्जेंटीना स्थित एसोसिएशन सॉलिडेरिया डी इनसफिशिएंट्स रेनल्स आॅफ ब्यूनस आयर्स की अध्यक्ष, एएकेपी के वैश्विक एंबेसडर डॉ. मारिया यूगेनिया विवादो दुरां ने कहा, 'एएसआईआर किडनी मरीजों के अधिकारों के समर्थन में एएकेपी के साथ काम करता है और चिकित्सा नवाचारों को आगे बढ़ाने के प्रयासों का साझा करता है जिससे किडनी रोगों का बेहतर बचाव किया जा सके और उनके जीवन की गुणवत्ता बेहतर हो सके।'

शिशु रोग विशेषज्ञ और एएकेपी की वैश्विक एंबेसडर डॉ. विवादो दुरां को दूसरी बार गर्भाधान के दौरान 1979 में किडनी रोग डायग्नोज हुआ। वह कई वर्षों तक हीमोडायलिसिस पर रही और वर्ष 2001 में उन्होंने एक मृत दानकर्ता का किडनी ट्रांसप्लांट कराया जिसके बाद से ही वह मरीजों के लिए लगातार काम कर रही हैं, समाज को शिक्षित कर रही हैं और अपने परिवार के साथ जीवन का आनंद ले रही हैं। वह लगातार चार बार एएसआईआर की अध्यक्ष रह चुकी हैं और अपने अनजान किडनी दानकर्ता के सम्मान में हर नेक काम करती हैं।

रेनल पेशेंट सपोर्ट ग्रुप (आरपीएसजी), ब्रिटेन की ओर से विशेषज्ञ बायोमेडिकल वैज्ञानिक, यूनिवर्सिटी आॅफ वेस्ट आॅफ इंग्लैंड (यूडब्ल्यूई) तथा एकेडमिक प्रमुख डॉ. शाहिद नजीर मोहम्मद ने कहा, 'शैक्षणिक जरूरतों की तलाश के लिए सीकेडी के ज्ञान को विविध सहरोगों और जांच के साथ वाली स्थिति वाली धारणाओं को समाहित करने वाले भविष्य के शोध लक्ष्य की दिशा में महत्वपूर्ण हैं। रेनल पेशेंट सपोर्ट ग्रुप (आरपीएसजी) ऐसी जगह है जहां जागरूकता और शोध

समुचित अनुपात में स्वास्थ्य सेवा को पूरा किया जाता है और प्रोत्साहन एवं सहयोग किया जाता है। नवाचार एक सीमा तक अच्छा है। हालांकि सीकेडी से संबंधित समयबद्ध एवं लक्षित शिक्षा और ठोस फोकस के साथ अनुशंसा शिशु एवं वयस्क  नेफ्रोलॉजी के बीच सबसे अच्छा काम करती है, स्वास्थ्य असमानता से निपटना यह सुनिश्चित करने के लिए चरम है कि सीकेडी के मरीजों को भुलाया नहीं गया है और वे नागरिक अधिकारों से वंचित हो गए हैं तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किडनी रोग के लिए जागरूकता है।'

किडनी रोग से पीड़ित बेटे की देखभाल करने वाली और संयुक्त अरब अमीरात में एएकेपी की वैश्विक राजदूत श्रीमती वसुंधरा राघवन ने कहा, 'किडनी मरीज संगठनों का अंतरराष्ट्रीय संघ कई नवाचारों को संचालित करने के लिए उत्प्रेरक होगा और किडनी मरीज के वातावरण में कई जरूरी बदलाव लाएगा। यह संघ अंतरराष्ट्रीय दानकर्ता बैंक के जरिये जोड़ा किडनी ट्रांसप्लांट संभव बनाने के लिए सीमापार उपचार प्रदर्शित करने में मदद कर सकता है। बेहतरीन कार्यों, ज्ञान और संसाधनों की साझेदारी किडनी मरीज समाज को तत्काल मदद पहुंचाएगी। इस तरह का सामूहिक प्लेटफॉर्म हमें किडनी शोध, मरीज तरफतारी के गति पकड़ने में मदद करेगा और जरूरतमंद मरीजों को वित्तीय सहायता देगा। किडनी मरीजों की जरूरतों को इसने बखूबी व्यक्त किया है। वे कठिन सफर तय कर रहे हैं और अपने लिए सर्वश्रेष्ठ कार्यों का प्रत्यक्ष ज्ञान हासिल कर रहे हैं। इन चर्चाओं के सूत्रधार मरीज नीतिगत मामलों पर निर्णायक फैसले लेने में मदद करेंगे जो उन पर सीधा असर करता है। इस प्लेटफॉर्म के जरिये उन्हें अपने विचार व्यक्त करने का एक माध्यम मिलेगा और वे व्यापक समाज तक अपने अनुभवों का साझा कर सकेंगे। इन चर्चाओं में शुरू से मरीजों को शामिल करना अत्यंत महत्वपूर्ण और मूल्यवर्धित है कि वे इस संवाद को व्यापक रूप से व्यावहारिक बना सकें।'

एएकेपी और जीडब्ल्यू एसएमएचएस अपने 2021 ग्लोबल समिट प्रायोजकों को धन्यवाद देते हैं। गोल्ड लेवल: हॉरिजोन थेराप्यूटिक्स एंड ट्रैवर थेराप्यूटिक्स, सिल्वर लेवल: केयरडीएक्स, इंक., पैट्रन लेवल: हंसा बायोफार्मा तथा सनोफी जेनजिम और सपोर्टिंग लेवल: एस्ट्राजेनेका एवं यूरोफिन्स ट्रांसप्लांट जिनोमिक्स। 2022 ग्लोबल समिट की जानकारी




पर उपलब्ध है।

अमेरिकन एसोसिएशन आॅफ किडनी पेशेंट्स (एएकेपी) के बारे में: वर्ष 1969 से एएकेपी किडनी मरीज उपभोक्ता देखभाल विकल्प और उपचार नवाचार पर नीतिगत चर्चाएं कराने वाली मरीजों द्वारा संचालित संस्था रही है। वर्ष 1973 तक एएकेपी मरीजों ने किडनी विफलता से पीड़ित किसी भी मरीज के लिए डायलिसिस कवरेज स्थापित करने के लिए अमेरिकी कांग्रेस और व्हाइट हाउस के साथ भागीदारी की थी, यह अमेरिकी करदाता समर्थित प्रसास है जिसने दस लाख से अधिक लोगों का जीवन बचाया है। वर्ष 2018 में एएकेपी ने सबसे बड़ा अमेरिकी किडनी वोटर पंजीकरण कार्यक्रम किडनीवोटर्स



शुरू किया था। पिछले एक दशक के दौरान एएकेपी मरीजों ने किडनी ट्रांसप्लांट कराने वालों (2020) के लिए लाइफटाइम ट्रांसप्लांट ड्रग कवरेज पाने, एडवांसिंग अमेरिकन किडनी हेल्थ (2019) पर व्हाइट हाउस कार्यकारी आदेश के जरिये मरीज केंद्रित नई नीतियां बनाने, अमेरिकी श्रम मंत्रालय (2018) से जीवित अंगदाताओं के लिए नई रोजगार सुरक्षा दिलाने और एचआईवी पॉजिटिव मरीजों (2013) के लिए एचआईवी पॉजिटिव के अंग प्रत्यारोपित करने की अनुमति देने वाले कांग्रेसनल कानून बनाने में मदद की है। एएकेपी को सोशल मीडिया पर @kidneypatient



फॉलो करें, फेसबुक पर, @kidneypatients



टि्वटर पर और @kidneypatients



इंस्टाग्राम पर फॉलो करें तथा देखें www.aakp.org

किडनी रोग नवाचार पर वैश्विक समिट एएकेपी के राष्ट्रीय रणनीतिक मीडिया पार्टनर ब्रायर पैच मीडिया



द्वारा तैयार किया गया, जो अमेरिका तथा कई अन्य अंतरराष्ट्रीय स्थानों पर निगमों, गैर—सरकारी संगठनों, व्यक्तियों के लिए रचनाशील कंसल्टिंग और संपूर्ण सेवा मीडिया वीडियो प्रोडक्शन तथा पोस्ट—प्रोडक्शन प्रदान करता है।

जॉर्ज वाशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल आॅफ मेडिसिन एंड हेल्थ साइंसेज के बारे में:

वर्ष 1824 में स्थापित जॉर्ज वाशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल आॅफ मेडिसिन एंड हेल्थ साइंसेज (एसएमएचएस) देश की राजधानी में पहला मेडिकल स्कूल था और देश में 11वां सबसे पुराना स्कूल है। एकजुटता और समाधान से हमारे देश की राजधानी में साथ काम करते हुए जीडब्ल्यू एसएमएचएस हमारे स्थानीय, राष्ट्रीय और वैश्विक समुदायों की सेहत में सुधार और बेहतरी के लिए प्रतिबद्ध है। इसकी वेबसाइट देखें smhs.gwu.edu


wu.edu)

स्रोत: अमेरिकन एसोसिएशन आॅफ किडनी पेशेंट्स

(संपादक : यह विज्ञप्ति आपको एशियानेट के साथ हुए समझौते के तहत प्रेषित की जा रही है। पीटीआई पर इसका कोई संपादकीय उत्तरदायित्व नहीं है।)
संपर्क:
मीडिया संपर्क विवरण:
जेनिफर रेट मार्केटिंग एंड कम्युनिकेशंस मैनेजर jrate@aakp.org +1-813-400-2394
 Bookmark with:   Delicious |  Digg |  Reditt |  Newsvine
    • arrow  प्रेस विज्ञप्ति
  • pti