महिलाओं की लेखनी में रिश्तों का अनुवाद करना सबसे बड़ी चुनौती है : रॉकवेल

Updated: Jan 20 2023 3:25PM

जयपुर, 19 जनवरी (भाषा) अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार विजेता उपन्यास ‘रेत समाधि’ का अनुवाद करने वालीं डेजी रॉकवेल ने बृहस्पतिवार को कहा कि महिलाओं की कथाओं में रिश्तों की भावनाओं का अनुवाद करना मुश्किल होता है क्योंकि उनके रिश्ते ‘‘परिवारों के अंदर ज्यादा गहराई’’ से जुड़े होते हैं।.

‘रेत समाधि’ पर हिंदी लेखिका गीतांजलि श्री के साथ काम करने से पहले रॉकवेल ने उपेंद्र नाथ अश्क के ‘‘गिरती दीवारें’’, भीष्म साहनी के ‘‘तमस’’ और कृष्णा सोबती के ‘गुजरात पाकिस्तान से, गुजरात हिंदुस्तान तक’ उपन्यास का अनुवाद किया।.